Type Here to Get Search Results !

Stampede after Bhole Baba's satsang in Hathras,122 people died, more than150 injured

हाथरस में भोले बाबा के सत्संग के बाद भगदड़ 122 लोगों की मौत,150 से अधिक घायल

फूलराई गांव में भोले बाबा के सत्संग के दौरान याह भगदड़ मच गयी जिसमें कई लोगों की मौत हो गयी है तथा अनेक अन्य घायल हो गये हैं। मरने वालों में ज्यादातर महिलाएं शामिल है। वहीं चाकी शव सीएचसी सिंकदराराऊ में हैं। वहां करीब 150 से ज्यादा लोग एडमिट हैं। शयों के पंचनामा की प्रक्रिया चाल रही है। फिर पोस्टमॉर्टम किया जाएगा। 

During the satsang of Bhole Baba in Phulrai village, a stampede broke out in which many people died and many others were injured. Most of the dead include women. The dead bodies are in CHC Sikandarau. More than 150 people are admitted there. The process of Panchnama of the houses is going on. Then postmortem will be done.

घटना सिकंदराराऊ कोतवाली क्षेत्र के जीटी रोड स्थित गांव फुलराई के पास की है। हादसे के बाद हालात भयावह हो गए। जैसे-वैसे घायलों और मृतकों को बस-टैंपो में लाकर सीएचसी अस्पताल ले जाया गया हाथरस जिले के डीएम और एसपी मौके पर पहुंच गए हैं।

The incident took place near Phulrai village located on GT Road of Sikandrarau Kotwali area. The situation became frightening after the accident. Somehow the injured and the dead were brought to the CHC hospital in a bus-tempo and the DM and SP of Hathras district have reached the spot.

इस बीच,पड़ोस में स्थित एटा जिले के मुख्य चिकित्सा अधिकारी उमेश चंद्र त्रिपाठी और जिले के वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक राजेश कुमार सिंह ने कहा कि भगदड़ में मारे गये 27 लोगों के शव एटा के पोस्टमार्टम हाउस भेजे जा चुके हैं। मुख्यमंत्री ने जनपद हाथरस में हुए हादसे का संज्ञान लिया। उन्होंने मृतकों के शोक संतप्त परिजनों के प्रति संवेदना व्यक्त की है।

Meanwhile, Chief Medical Officer of neighboring Etah district Umesh Chandra Tripathi and District Senior Superintendent of Police Rajesh Kumar Singh said that the bodies of 27 people killed in the stampede have been sent to the post-mortem house in Etah. The Chief Minister took cognizance of the accident that took place in Hathras district. He has expressed condolences to the bereaved families of the deceased.

ऐसे हुआ हादसा

प्रत्यक्षदर्शियों के अनुसार सत्संग के बाद श्रद्धालु बाबा के काफिले के पीछे उनकी चरण रज लेने के लिए दौड़े। भीड़ को काबू में करने के लिए पानी की बौछारें फेंकी गई। लोग भागने लगे, तभी एक-दूसरे पर गिरते गए.. कुचलने से इतनी मौतें हुई।

This is how the accident happened

According to eyewitnesses, after the satsang, devotees ran behind Baba's convoy to seek his feet. Water cannons were thrown to control the crowd. People started running, then they started falling on each other... so many deaths occurred due to being crushed.


Tags

Post a Comment

0 Comments
* Please Don't Spam Here. All the Comments are Reviewed by Admin.

(Google Ads) Hollywood Movies