Type Here to Get Search Results !

पंचायत द्वारा पेयजल व्यवस्था पर साढ़े 6 लाख से अधिक खर्च के बाद भी केराकछार वासियों को नही मिल रहा शुद्ध पानी, पेयजल के लिये मशक्कत कर रहे

 पंचायत द्वारा पेयजल व्यवस्था पर साढ़े 6 लाख से अधिक खर्च के बाद भी केराकछार वासियों को नही मिल रहा शुद्ध पानी, पेयजल के लिये मशक्कत कर रहे यहां के निवासी, सरपंच- सचिव पर शासकीय राशि के दुरुपयोग का आरोप

 जल जीवन मिशन योजना भी पूर्ण होने के बाद पड़ा ठप्प.

कोरबा/पाली:- केराकछार ग्राम पंचायत वासियों को शुद्ध पेयजल उपलब्ध कराने की दिशा में सरपंच- सचिव ने लाखों खर्च बता भुगतान लिया और मजे किये। वहीं पेयजल की किल्लत से जूझते लोग शुद्ध पानी के लिये दूरी नाप रहे है। पेयजल की समस्या से जूझ रहे इस पंचायत के निवासियों ने सरपंच- सचिव पर साफ पानी व्यवस्था की आड़ में शासकीय धन के दुरुपयोग का आरोप लगाया है।

पाली ब्लाक अंतर्गत ग्राम केराकछार के निवासी पानी के लिए जद्दोजहद कर रहे है। इस पंचायत के शासकीय भवनों में स्थापित रनिंग वाटर सिस्टम योजना भी लगभग फेल है तो यहां के निवासी दूरदराज से पीने का पानी ढोने को मजबूर है। 14वें, 15वें वित्त मद की राशि से सरपंच- सचिव द्वारा पेयजल की दिशा में सबमर्सिबल एवं सिंटेक्स स्थापना के कार्य पर किये गए लाखों खर्च का 50 प्रतिशत भी लाभ ग्रामीणों को नही मिल पाया और वे शुद्ध जल के लिये हेंडपम्पो को निहार रहे है। पड़ताल में सामने आया कि अनेक हेंडपम्प खराब पड़े है। वहीं अन्य हेंडपम्पो में लगे सबमर्सिबल पंप या खराब होकर पड़े है या निकाल लिये गए और कुछ हेंडपम्पो के सबमर्सिबल पंप धंस चुके है। ऐसी स्थिति में ग्रामीणों को पेयजल के लिये गिने चुने चल रहे हेंडपम्पो की दौड़ लगानी पड़ती है तब कहीं जाकर उन्हें पीने का पानी उपलब्ध हो रहा है। सरपंच- सचिव ने सबमर्सिबल पंप एवं सिंटेक्स स्थापना कार्य हेतु बाउचर तिथि 29 जुलाई 2020 को 3 लाख 43 हजार 14वें वित्त से निकाली है। इसी प्रकार 15वें वित्त मद से गज्जू घर के पास बोर खनन पर बाउचर तिथि 26 नवंबर 2021 को 60 हजार व 20 जून 2022 को 89.908 हजार की राशि आहरण की गई है। वहीं भिलाई खुर्द में बोर खनन एवं सिंटेक्स स्थापना में 13 दिसंबर 2022 की बाउचर तिथि में 90 हजार तथा लोटानपारा (धनुहारपारा बस्ती में) सबमर्सिबल पंप व सिंटेक्स स्थापना के नाम पर बाउचर तिथि 2 जनवरी 2023 की स्थिति में 55.450 हजार आहरित है। जबकि हेंडपम्प मरम्मत के लिए भी बाउचर तिथि 21 अक्टूबर 2021 को 15.036 एवं 3 अक्टूबर 2022 को 4.031 हजार की राशि 15वें वित्त मद से खर्च की गई है। इस प्रकार पेयजल व्यवस्था के नाम पर 6 लाख 57 हजार 4 सौ 25 रुपए की राशि आहरण का उल्लेख जिओ टैग में है जबकि हालात इसके विपरीत है और इस ग्राम पंचायत के सड़कपारा, भिलाईपारा, धनुहारपारा व बस्तीपारा निवासी परिवारों के लिए पेयजल की आवश्यकता प्रथम समस्या बनकर रह गया है। लोटानपारा बस्ती में मंगल घर के पास हेंडपम्प में सबमर्सिबल पंप डाल व शनि घर के पास सिंटेक्स स्थापना की गई है, वर्तमान जिसके पानी का उपयोग इस मोहल्ले में निवासरत 20- 25 घरों के परिवार पीने हेतु कर रहे है। कुल आबादी 2198 वाले इस ग्राम पंचायत में वर्तमान हालात यह है तो ग्रीष्म कालीन मौसम में क्या स्थिति रहेगी, यह सोचनीय है। ग्रामीणों ने बताया कि रोजाना पीने के पानी के लिए काफी मशक्कत करना पड़ता है। सरपंच- सचिव को इस दिशा में पहल करने अनेको बार बोला गया लेकिन वे इस ओर ध्यान ही नही दे रहे। वहीं यहां नल जल योजना का काम पूर्ण तो हो चुका है और दो चार दिन पानी भी मिला जिसके बाद यह योजना भी बंद पड़ा है। ग्रामीणों ने सरपंच- सचिव पर पेयजल व्यवस्था मुहैया कराने के नाम पर मनमाने काम और लाखों के राशि खर्च के बाद भी पेयजल व्यवस्था का पूरा लाभ नही मिलने का आरोप लगाया है। इस संबंध पर प्रतिक्रिया जानने सचिव मनहरण सिंह मरावी से फोन के माध्यम से संपर्क करने पर उन्होंने कहा कि पेयजल उपलब्ध कराने की दिशा पर काम तो हुआ है लेकिन इसका लाभ ग्रामीणों को नही मिल पा रहा तो वे क्या करे। यहां रनिंग वाटर सिस्टम स्थापना की आड़ में भी सरपंच- सचिव ने मिलकर पंचायत मद के लाखों की राशि का जमकर कैसे दुरुपयोग किया है जिसे अगले खबर में प्रसारित किया जाएगा।

Tags

Post a Comment

0 Comments
* Please Don't Spam Here. All the Comments are Reviewed by Admin.