Type Here to Get Search Results !

जिला शिक्षा अधिकारी तथा वि.खंड शिक्षा अधिकारी हुए निलंबित

पदस्थापना में पैसे लेकर शिक्षा विभाग को दिए भ्रष्टाचार का रुप

बलौदाबाजार भाटापारा जिले में 1 अगस्त शिक्षा विभाग के लिए बुरे सपने जैसा दिन रहा क्योंकि बलौदाबाजार भाटापारा जिले में जिला शिक्षा अधिकारी सीएस ध्रुव तथा सिमगा विकास खंड शिक्षा अधिकारी एसके गेंदले को छत्तीसगढ़ के राज्यपाल के नाम आर पी वर्मा अवर सचिव निलंबन का आदेश थमाया। पूरे मामले का विवरण इस प्रकार से है कि सहायक शिक्षक (एलबी) से प्रधान पाठक प्राथमिक शाला और शिक्षक तथा शिक्षक से प्रधान पाठक पूर्व माध्यमिक शाला के पद पर पदोन्नति पश्चात पदस्थापना ओपन काउंसलिंग के माध्यम से किए जाने हेतु स्कूल शिक्षा विभाग में दिनांक 7/11/2022 एवं 29/03/2023 द्वारा प्रदेश के समस्त संयुक्त संचालन जिला शिक्षा अधिकारी को निर्देश दिया गया था जिसके परिपालन में संभागीय संयुक्त संचालक शिक्षा रायपुर के द्वारा सहायक शिक्षकों की पदोन्नति उपरांत स्थापना हेतु काउंसलिंग करते हुए पदस्थापना जारी किए गए थे उक्त काउंसलिंग के पश्चात भी पदोन्नति उपरांत पदस्थापना आदेश में संशोधित किए जाने की शिकायत प्राप्त हुई शिकायत की संभावित रायपुर से प्रारंभिक जांच में पाया गया कि स्कूल शिक्षा विभाग के आदेश दिनांक 6/01/22 द्वारा शिक्षक के पद पर पदोन्नति के निर्देश दिए गए थे प्रकरण में सहायक शिक्षक (एलबी) से शिक्षक पद पर पदोन्नति हेतु सदस्य विभागीय पदोन्नति समिति का गठन किया गया था। रायपुर संभाग अंतर्गत विभिन्न पदों के कुल 3335 पद रिक्त रहा है जिसमें शिक्षक एलबी से शिक्षक के पद पर पदोन्नति हेतु 1319 पदों की डीपीसी हेतु 31/03/ 23 को बैठक आहूत किया गया था कुछ लोगों का माननीय न्यायालय प्रकरण विचाराधीन होने के कारण दिनांक 31/03/23 को विषय हिंदी,संस्कृत उर्दू में पदोन्नति आदेश जारी नहीं किए गए शेष विषय में ई संवर्ग +टी संवर्ग के 949 लोगों का पदोन्नति आदेश जारी किया गए। प्रकरण में ऐसे सहायक शिक्षक जो प्रधान पाठक प्राथमिक शाला के पद पर पदोन्नत होकर कार्यभार ग्रहण कर चुके थे दिनांक 19/04/ 23 को रिब्यू डीपीसी आहूत किया गया जिसमें वही सदस्य सम्मिलित रहे जो मूल डीपीसी में सम्मिलित हुए हैं परंतु 31/03/23 को डीपीसी उपरांत पदोन्नति किए गए शिक्षकों को आदेश के संबंध में कोई आदेश निर्देश जारी नहीं किया गया। रिव्यू डीपीसी दिनांक 19/04/23 के परिपेक्ष में दिनांक 1505/23 द्वारा सहायक शिक्षक को शिक्षक के पद पर संवर्ग के विषयवार कुल 1283 पदोन्नत आदेश जारी किए गए। पदोन्नत शिक्षकों का शासन निर्देश अनुसार 17/05/23 से दिनांक 21/05/23 तारीख तक विषय वार ओपन काउंसलिंग किया गया।दिनांक 25/05/ 23 को पदोन्नति आदेश जारी किए गए। ओपन काउंसलिंग पश्चात पदस्थ अपना में संशोधन हेतु 778 अभ्यावेदन प्राप्त हुए सभी अभ्यावेदन में निर्णय लिए जाने हेतु बिना शासन आदेश निर्देश की छानबीन समिति का गठन किया गया। 

                 जिनमें सीएस ध्रुव शिक्षा अधिकारी बलौदाबाजार- भाटापारा,एसके गेंदले विकास खंड शिक्षा अधिकारी,संजय पुरी गोस्वामी शिक्षा खंड शिक्षा अधिकारी धरसींवा,डीएस ध्रुव सहायक संचालक रायपुर, आरके वर्मा प्राचार्य डाइट और उनके द्वारा 565 शिक्षकों का संशोधन की अनुशंसा की गई जिसमें 543 शिक्षकों के विरुद्ध पदस्थापना आदेश में विधि विरुद्ध संशोधन किया जाना पाया गया। उक्त सभी संबंध में कुल 1283 सहायक शिक्षकों के पद से पदोन्नति उपरांत 543 शिक्षकों के पदस्थापन स्थान में संशोधित कर शासन निर्देश के विपरीत अनियमितता की गई जिसमें मुख्य रुप से तत्कालीन संयुक्त संचालक शिक्षा रायपुर के साथ-साथ विभागीय पदोन्नति समिति के सदस्य एवं विधि विरुद्ध छानबीन समिति के सभी सदस्यों द्वारा अवैधानिक रूप से पैसे की लेनदेन कर भारी भ्रष्टाचार के जाने की पुष्टि हुई जो छत्तीसगढ़ सिविल सेवा आचरण नियम 1965 के नियम-3 के विपरीत गंभीर कदाचार है।जिस पर राज्य सरकार सिविल सेवा 1966 के नियम 9(1)के तहत के के.कुमार संयुक्त संचालक रायपुर,सी एस ध्रुव जिला शिक्षा अधिकारी बलौदाबाजार- भाटापारा, आर के वर्मा प्राचार्य डाइट रायपुर,डी.एस. ध्रुव,सहायक संचालक श्रीमती शैल सिन्हा, श्रीमती उषा किरण खलखो, संजय पुरी गोस्वामी धरसींवा एसके गेंदले को तत्काल प्रभाव से निलंबित किया गया।

Tags

Post a Comment

0 Comments
* Please Don't Spam Here. All the Comments are Reviewed by Admin.