Type Here to Get Search Results !

भ्रष्ट्र सचिवों के खिलाफ वर्षों से लटकी जांच फाइलें जिला पंचायत सीईओ विश्वदीप ने खुलवायी, 18 अगस्त तक लंबित सभी जांच प्रतिवेदन प्रस्तुत करने के निर्देश

भ्रष्ट्र सचिवों के खिलाफ वर्षों से लटकी जांच फाइलें जिला पंचायत सीईओ विश्वदीप ने खुलवायी, 18 अगस्त तक लंबित सभी जांच प्रतिवेदन प्रस्तुत करने के निर्देश, अनियमिता के आरोपों से घिरे सचिवों में मचा हड़कंप


कविता कश्यप जिला कोरबा 

कोरबा:- जिला पंचायत कोरबा के तत्कालीन सीईओ नूतन कुमार कंवर के कार्यकाल में अनियमितता के आरोपी ग्राम पंचायत सचिवों की विभागीय जांच फाइलें वर्षों से लंबित रहा। दूसरी ओर उप संचालक पंचायत सुश्री जूली तिर्की पर भी जिन जांच पूरा कराने जा जिम्मा था उन्होंने ने भी गंभीरता नही दिखायी। अब जिला पंचायत के नए सीईओ विश्वदीप ने विभागीय व्यवस्थाओं में कसावट लाते हुए ग्राम पंचायत सचिवों के विरूद्ध लंबित विभागीय जांच को लेकर जनपद के मुख्य कार्यपालन अधिकारियों को आदेशित किया है और 18 अगस्त तक समस्त लंबित विभागीय जांच प्रतिवेदन अनिवार्य रूप से प्रस्तुत करने कहा गया है। जिससे ग्राम पंचायत सचिवों में खासा हडक़ंप मच गया है। जिला पंचायत सीईओ विश्वदीप ने ग्राम पंचायत सचिवों के खिलाफ लंबित विभागीय जांच को पूर्ण कर प्रतिवेदन प्रस्तुत करने कोरबा, करतला, कटघोरा, पाली व पोड़ी-उपरोड़ा मुख्य कार्यपालन अधिकारियों को आदेशित किया है। इस संबंध में जारी पत्र में कहा गया है कि पंचायत सचिवों के विरूद्ध संस्थित विभागीय जांच के तहत उनको जांचकर्ता अधिकारी नियुक्त किया गया है तथा संस्थित विभागीय जांच आदेश के तहत तीन माह के भीतर विभागीय जांच पूर्ण करते हुए अभिमत सहित जांच प्रतिवेदन प्रस्तुत करने का निर्देश दिया गया था, लेकिन मुख्य कार्यपालन अधिकारियों ने कई वर्षों से विभागीय जांच प्रतिवेदन प्रस्तुत नहीं किया है। जिससे संबंधित कर्मचारी के संबंध में उचित कार्यवाही पर निर्णय नहीं लिया जा सका है। जिला पंचायत सीईओ विश्वदीप ने अत्यंत खेदजनक बताया है। उन्होंने मुख्य कार्यपालन अधिकारियों को समस्त लंबित विभागीय जांच प्रतिवेदन 18 अगस्त तक प्रस्तुत करने कहा है।

 इन सचिवों के खिलाफ हैं जांच पेंडिंग

जिला पंचायत सीईओ विश्वदीप द्वारा अधिकारियों को पेंडिंग जांच की जो सूची सौंपी गई है उसकी फेहरिस्त काफी लंबी है। लगभग 50 से अधिक पंचायत सचिवों के खिलाफ जांच कार्यवाही लंबित पड़ी हुई है। इनमें तत्कालीन ग्राम पंचायत लालपुर के सचिव सूरज जायसवाल, इंद्रपाल मरकाम रामपुर, श्यामलाल मिरी अखरापाली, चंद्रमोहन सिंह सिदार नकटीखार, विनोद कुमार राठिया लबेद, देवशंकर सिंह कंवर गोपालपुर, अमीर सिंह मरावी नानपुलाली, कृष्णकुमार तंवर देवपहरी, सुरेश कुमार राठिया गिरारी, सुकुल सिंह कारीमाटी, भंवर सिंह श्याम पसान, पत्थर सिंह मानिकपुर, कांशीराम पुटीपखना, जगतपाल विंध्यराज नवापारा, श्यामसुंदर खुरसेंगा नुनेरा, भगवान सिंह कुटेसर नगोई, चंद्रिका प्रसाद पोर्ते अमझर, भागवत सिंह भांवर, सुधाकर सिंह कटोरी नगोई, उदय सिंह आयाम सिर्री, विनोद मिश्रा बांझीबन, कैलाश सिंह बनिया, भुजबल सिंह पतुरियाडांड, अशोक निषाद लालपुर, बाबू सिंह तानाखार, बलराम केरकेट्टा सेमरा, विरेन्द्र कुमार साहू कटोरी नगोई, कमल सिंह कंवर लबेद, परदेशी राम निषाद पसरखेत, गणेशराम बिंझवार उमरेली, सुरेश चंद्र सिंह कंवर धनगांव, कन्हैयालाल नेताम रेंकी, राजकुमार कश्यप चोढ़ा, जान सिंह राज पटपरा, रविशंकर जायसवाल तेलसरा, चंद्रिका प्रसाद तंवर रतखंडी, दिनेश सिंह तंवर, ममता सोनी, रामसिंह, रतन सिंह कंवर, विजय कुमार कंवर, प्रवीण कुमार, हिंगलाज सिंह, कृपाल सिंह, रामेश्वर सिंह, रामसेवक सिंह राठौर, चंद्रपाल सिंह मरावी, राकेश कुमार चुवन लमना, कौशल प्रसाद सिंह, मघन सिंह कंवर, अनिल कुमार कैवर्त, संतोष दीवान व ईश्वर धिरहे रजगामार शामिल है।

Tags

Post a Comment

0 Comments
* Please Don't Spam Here. All the Comments are Reviewed by Admin.