Type Here to Get Search Results !

CG= रोका- छेका अभियान के बावजूद हर तरफ सड़कों व खेतो में दिख रहा मवेशियों का जमावड़ा - खूबचंद

कागजों में ही सिमटी योजना, मवेशियों के मल मूत्र से सड़क पर फैल रही गंदगी।

संवाददाता योगेश केसरवानी जिला ब्यूरो सारंगढ़

भटगांव :- बिलाईगढ़ ब्लाक में भी रोका छेका अभियान जारी है लेकिन धरातल पर उल्टे मवेशियों ने ही सड़कों को रोक और छेक रखा है। सरकार की अधिकांश योजनाओं की तरह रोका-छेका अभियान का बेहाल होता दिख रहा है। खूबचंद मिरी भाजपा जिला सोशल मीडिया प्रभारी सारंगढ़ बिलाईगढ़ ने बताया कि छत्तीसगढ़ में पुरानी परंपरा रही है। जैसे ही बारिश के मौसम में किसान खेती की शुरुआत करते हैं उस वक्त मवेशी खेतों को नुकसान न पहुंचाएं इसके कारण उन्हें घरों में ही बंद रखा जाता है ।इसे रोका छेका कहा जाता है। किसानों की सरकार होने का दावा करने वाली भूपेश बघेल सरकार भी इसी परंपरा को कायम रखते हुए 17 जुलाई को हरेली पर्व से रोका छेका अभियान सुरुवात किया गया । खूबचंद ने बताया कि बिलाईगढ़ नगर पंचायत व क्षेत्र के ग्रामिण अचंल ग्राम पंचायत के सचिव और जनपद अधिकारियों को जिम्मेदारी दी गई है कि वह सड़क पर मौजूद मवेशियों को गौठान तक पहुंचाएं लेकिन रोका छेका योजना जारी है लेकिन इसका असर कहीं भी दिखाई नहीं पड़ रहा। वहीं सड़कों और खेतों में अभी भी हर ओर मवेशी जमे हुए हैं । खूबचंद मिरी ने कहा कि बिलाईगढ़ विधानसभा क्षेत्र के किसी भी सड़क व खेत जगह पर चले जाइए, सड़क और खेतो पर गाय बैलों के झुंड नजर आ ही जाएंगे।

सड़क पर पंचायत लगाकर मवेशियों के बैठने के कारण हर तरफ गोबर रहता है बिखरा 

बारिश होते ही मिट्टी गीली होने के बाद मवेशी बीच सड़क पर ठिकाना बना लेते हैं। सड़क जहां सुखी होती है वही दावा किया जाता है कि सड़क से गुजरने वाले वाहनों के धुएं के कारण उन्हें मक्खी भी परेशान नहीं करते । इस कारण से सभी सड़कों पर मवेशियों का डेरा है । सड़क पर पंचायत लगाकर मवेशियों के बैठने के कारण हर तरफ गोबर भी बिखरा पड़ा है जिससे सड़कों की अलग दुर्गति हो रही है ।

 इस योजना से गांव में भी कोई बदलाव नहीं दिख रहा। ऐसे में समझ नहीं आ रहा कि सरकार की महत्वकांक्षी योजना रोका छेका आखिर चल कहां रही है । सड़क पर मवेशियों के होने से सड़क दुर्घटना में भी इजाफा हो रहा है तो वहीं सभी रास्ते में लगातार गंदगी भी हो रही है। गोबर से होने वाली गंदगी को दूर करने राज्य शासन ने गोबर खरीद रहा है, वही रोका छेका अभियान ग्रामीण क्षेत्रों में भी लागू ना होने से किसानों को भी कोई लाभ नहीं मिल पाया । ऐसे में क्षेत्रिय कांग्रेस विधायक की गंभीरता व सक्रियता पूरी तरह से निष्क्रिय व प्रदेश की कांग्रेस सरकार की रोका छेका व अन्य योजनाएँ विफल नजर आ रही हैं।

Tags

Post a Comment

0 Comments
* Please Don't Spam Here. All the Comments are Reviewed by Admin.