Type Here to Get Search Results !

CGबस्तर= में मुर्गा लड़ाई:तेलंगाना, आंध्र और ओडिशा से आते हैं दांव लगाने

हरि सिंह ठाकुर जिला ब्यूरो बस्तर 

 मुर्गा लड़ाई देशभर में होती है, कई जगह ग्रामीण संस्कृति का हिस्सा है लेकिन बस्तर की मुर्गा लड़ाई की बात ही खास है। खास इसलिए क्योंकि यहां रोज मुर्गा लड़ाई में एक-एक करोड़ रुपए के दांव लग रहे हैं। मनोरंजन का यह खेल बस्तर से आंध्रप्रदेश, तेलंगाना और ओडिशा में भी लोकप्रिय है। वहां से बड़ी संख्या में कारोबारी यहां आकर दांव लगा रहे हैं।

जीतने पर रकम 10 से 30 सेकंड में दोगुनी हो रही है तथा मौके पर ही ऑनटाइम पेमेंट हो रहा है। बस्तर के जिन बाजारों में लड़ाई हो रही है, वहां इसे देखने के लिए 2 हजार से लेकर 10 हजार तक लोग पहुंच रहे हैं।

यहां भी लाखों के दांव लगता है लाखों का दांव : ल्लीगांव, चित्रकोट रोड (सोमवार)। मरईगुड़ा, आंध्र-छत्तीसगढ़-तेलंगाना की बॉर्डर का गांव। (मंगलवार, गुरुवार, रविवार)। पाकेला, सुकमा रोड (शनिवार)। तुमनार, बीजापुर (शनिवार)। करकापाल (शनिवार)। मारपाल (शुक्रवार)। गीदम (रविवार)। जगलपुर (सप्ताह में 2 दिन।)

मनोरंजन के लिए पशु, पक्षियों, जानवरों का इस्तेमाल : इतिहास में और मौजूदा वक्त पर मनोरंजन के लिए पशु, पक्षियों और जानवरों का इस्तेमाल होता आ रहा है। मुर्गा लड़ाई (तमिलनाडू के तिरुप्पुर और कोयंबटुर, आंध्रप्रदेश के करेमपुडी में, कर्नाटक के उडुपी में, केरला के कासरगोड में, झारखंड के टूसी मेले में, छत्तीसगढ़ के बस्तर संभाग में), जली कट्टू (तमिलनाडू में सांड़ और इंसान के बीच का खेल), बुलफाइटिंग (सांडो की लड़ाई), कंबाला (भैंसों की दौड़), भालू नाच,बंदर नाच और सर्कस में जानवरों का उपयोग सदियों से होता आ रहा है।

दांव लगाने वाले आते हैं तीन-तीन सौ किमी दूर से

रविवार को दोपहर 3 बजे जगदलपुर से करीब 80 किमी दूर गीदम के साप्ताहिक बाजार के ठीक सामने बड़े मैदान पर मुर्गा लड़ाई होने वाली थी। हाट-बाजार से ज्यादा भीड़ वहीं थी, करीब 8 हजार लोग होंगे। मुर्गा गाली (अखाड़ा) में जगह नहीं मिली, तो लोग पेड़ पर चढ़ गए। वहां अलग-अलग झुंड में लड़ने वाले मुर्गों की जोड़ियां बन रही थीं। इसके लिए मुर्गा मालिक वजन और मुर्गे की किस्म को देख रहे थे। दांव वहीं लग रहे थे, 20 से 50 हजार तक। 25 जोड़े लड़ाई के लिए तैयार हुए। मुर्गा गाली में बड़े कारोबारियों के लिए कुर्सियां थीं, जिनपर बैठने का रेट 500 रुपए था। पहले सर्किल का टिकट 100 रुपए और बाहर का सर्किल नि:शुल्क। गाली में 2 मुर्गे जैसे ही पहुंचे, दांव लगने शुरू हो गए। मुर्गों का नाम लेकर सपोर्ट किया जाने लगा लेकिन 20 सेकंड में खामोशी...। पता चला एक मुर्गा मारा गया...। जीतने वाले व्यापारी को 50 हजार रुपए और मरा मुर्गा मिला। लोगों ने बताया कि शाम होते-होते 40 लाख रुपए का दांव लग जाएगा।
  • {लड़ाई के पहले मुर्गे के दाएं पैर में चाकू लगाया जाता है। चाकू लगाने वालों के लिए अलग से चौपाल लगी होती है।
  • {घायल मुर्गे का इलाज, टांका लगाने के लिए अलग चौपाल। ये 100 रुपए में ही मुर्गे का पूरा उपचार कर देते हैं।

ब्रेकिंग न्यूज़ हिंदी में सबसे पहले पढ़ें Newskhabar36.in हिंदी ताजा खबर,लाइव न्यूज अपडेट, पढ़ें सबसे विश्वसनीय हिंदी न्यूज़ वेबसाइट Newskhabar36.in हिंदी विज्ञापन ऐड हेतु संपर्क करें।

MO=7440874197 Newskhabar36.in

Newskhabar36.in web print news

न्यूज़ खबर 36 वेब प्रिंट

के लिए समस्त सभी क्षेत्रों में संवाददाता की जरूरत है।

अनुभवी पत्रकार अपनी खबर अपना नाम स्थान का नाम साथ में खबर हमें भेज सकते हैं 

 जो कोई पत्रकार बंधु अपनी खबर Newskhabar36.in लगवा सकते हैं 

इस ग्रुप में जुड़ना चाहते हैं तो 

https://chat.whatsapp.com/DpGEw1rHSxcF4WcXS9qZoy

 👆👆👆👆👆👆इस लिंग पर क्लिक कर ग्रुप में जुड सकते हैं और अपनी खबर भेज सकते हैं।

Tags

Post a Comment

0 Comments
* Please Don't Spam Here. All the Comments are Reviewed by Admin.