Type Here to Get Search Results !

आज मंदिरों में मनाया जाएगा नेत्रोत्सव, इस दिन निकलेगी जगन्नाथ रथयात्रा

नामदेव साहू 

 छत्तीसगढ़,= लगभग 15 दिनों पहले ज्येष्ठ पूर्णिमा पर भगवान जगन्नाथ अत्यधिक स्नान से अस्वस्थ हो गए थे। भगवान को स्वस्थ करने के लिए औषधियुक्त काढ़ा पिलाने की रस्म निभाई जा रही है। अमावस्या तिथि पर भगवान को अंतिम काढ़ा पिलाने की रस्म निभाई गई। काढ़ा का भोग लगाकर श्रद्धालुओं को प्रसाद के रूप में वितरित किया गया। आषाढ़ माह के शुक्ल पक्ष की एकादशी तिथि को भगवान स्वस्थ हो जाएंगे और नेत्र खोलेंगे। मंदिरों में नेत्रोत्सव मनाया जाएगा। नेत्रोत्सव के अगले दिन द्वितीया तिथि पर 20 जून को भगवान अपनी प्रजा से मिलने रथ पर सवार होकर भ्रमण करेंगे और मौसी के घर जाकर विश्राम करेंगे।

20 जून को रथयात्रा की तैयारी

राजधानी के लगभग 10 जगन्नाथ मंदिरों में 20 जून को निकाली जाने वाले रथयात्रा की तैयारी जोरशोर से चल रही है। गायत्री नगर, सदरबाजार, टुरी हटरी पुरानी बस्ती, लिली चौक, आमापारा, अश्विनी नगर, पुराना मंत्रालय परिसर, आकाशवाणी कालोनी, गुढ़ियारी, कोटा के मंदिरों से रथयात्रा निकाली जाएगी। भगवान जगन्नाथ अपने बड़े भैय्या बलदेव और बहन सुभद्रा के साथ रथ पर सवार होकर अपनी मौसी के घर जाकर विश्राम करेंगे। भगवान के विश्राम स्थल को गुंडिचा मंदिर कहा जाता है।

प्रदेश के मुखिया पूजा करके करेंगे यात्रा का शुभारंभ

गायत्री नगर स्थित जगन्नाथ मंदिर के संस्थापक पुरंदर मिश्रा ने बताया कि रथयात्रा के लिए राज्यपाल और मुख्यमंत्री को आमंत्रित किया गया है। प्रदेश के मुखिया रथ के आगे सोने से निर्मित झाड़ू से बुहारने की रस्म निभाकर रथयात्रा को रवाना करेंगे। भगवान 10 दिनों मौसी के घर विश्राम करके 29 जून को देवशयनी एकादशी पर वापस मूल मंदिर में लौटेंगे। रथयात्रा की वापसी को बहुड़ा यात्रा कहा जाता है।


ब्रेकिंग न्यूज़ हिंदी में सबसे पहले पढ़ें NEWKHABAR36.in हिंदी ताजा खबर,लाइव न्यूज अपडेट, पढ़ें सबसे विश्वसनीय हिंदी न्यूज़ वेबसाइट NEWKHABAR36.in हिंदी विज्ञापन ऐड हेतु संपर्क करें।


Tags

Post a Comment

0 Comments
* Please Don't Spam Here. All the Comments are Reviewed by Admin.