Type Here to Get Search Results !

छत्तीसगढ़ शासन की महत्त्वकांक्षी गौठान योजना सेन्द्रीपाली में फलीभूत, किसान, पशुपालक एवं समूह की महिलाओं के लिए आर्थिक समृद्धि और खुशहाली का बन रहा आधार

खिकराम कश्यप जिला कोरबा 

कोरबा/पाली:-छत्तीसगढ़ शासन की महत्वाकांक्षी गौठान योजना पशुपालको के हित में लिया गया एक ऐसा निर्णय है जिससे उन्हें वित्तीय मदद के साथ- साथ रोजगार भी मिल रहा है एवं वे आर्थिक रूप से सुदृढ़ हो रहे है। ग्रामीण महिलाओं को भी समूह के माध्यम से एक ही समय में एक से अधिक कार्य करके आर्थिक मजबूती प्राप्त करने का रास्ता गोठानों ने बखूबी दिखाया है, तो वहीं गोठानों से ग्राम स्वावलंबन का सपना साकार हो रहा है। सेन्द्रीपाली में भी शासन की गौठान योजना प्रशासनिक अधिकारियों, समिति व सरपंच- सचिव के प्रयास से मॉडल गौठान से भी बेहतर होने के साथ फलीभूत होते दिख रही है।

जिले के पाली विकासखण्ड अंतर्गत आने वाले ग्राम पंचायत सेन्द्रीपाली, जहां निर्मित गौठान से किसान और पशुपालक अब समृद्धि की राह में आगे बढ़ रहे है। गोठान सुराजी ग्राम योजना अंतर्गत समृद्धि और खुशहाली का आधार बन रहे है। वैसे तो छ.ग. शासन के मंशानुसार नरवा, गरुवा, घुरवा अउ बारी योजना के तहत हर ग्राम पंचायत में गौठान योजना का क्रियान्वयन किया जाना है, जिसे अमलीजामा पहनाने जिला प्रशासन युद्ध स्तर पर कार्य कर रहा है और जिसके परिपालन में गौठान योजना के लाभ धरातल पर दिखने लगे है। अनेक ग्रामों में मॉडल गौठान को भी आस्तित्व में लाया गया है, किन्तु ग्राम पंचायत सेन्द्रीपाली के गौठान की हरियाली मन को आनंदित कर देती है, जहां फलदार एवं छायादार के लगाए गए पौधे अब हरे- भरे होकर गौठान के चारो ओर लहलहाने लगे है। गौ वंश के मूलभूत सुविधा हेतु पेयजल, चारा, छाया, सोलर स्ट्रीट लाइट इत्यादि की व्यवस्था की गई है। जिसमें गौठान मवेशियों की देखरेख के उपयुक्त स्थान के साथ बीमार पशुओं के ईलाज एवं टीकाकरण का कार्य समय- समय पर पशुचिकित्सा विभाग द्वारा किया जाता है। इस गोठान में 185 गोबर विक्रेता किसान पंजीकृत है जिसमें नियमित रूप से 174 किसान सक्रिय रूप से शासन द्वारा निर्धारित दो रूपये प्रति किलोग्राम की दर से गोबर की बिक्री कर रहे है जिसमे ग्राम की पँचकुंवर बाई ने 35 सौ क्विंटल गोबर बेचकर 70 हजार का लाभांश लिया है। यहां लगभग 110 क्विंटल पैरादान किसानों ने किया है। वहीं महामाया स्व. सहायता समूह एवं चंद्रहासिनी स्व. सहायता समूह ने वर्मी कंपोस्ट एवं बाड़ी योजना से 6 लाख से भी अधिक की आय प्राप्त करते हुए आर्थिक रूप से सशक्त होते हुए अपने घर परिवार की आवश्यकताओं की पूर्ति करने में सक्षम भी बनी है। जिला प्रशासन के निर्देशानुसार एवं पाली जनपद सीईओ व्ही के राठौर के कुशल मार्गदशन और गौठान समिति व सरपंच श्रीमती रीता टेकाम, सचिव श्याम सुंदर खुरसेंगा के देखरेख वाले सेन्द्रीपाली का गौठान मॉडल गौठान से भी बेहतर संचालित हो रहा है। सरपंच पति एवं गौठान समिति के सदस्य चंद्रभवन सिंह टेकाम ने बताया कि गौठान में गौ वंश के देखरेख एवं उनके चारे, पानी व्यवस्था के लिए चरवाहा बुंदराम जगत एवं चौकीदार के रूप में शिवसिंह बाघ और कृष्णा सिंह को मानदेय पर नियुक्त किया गया है। ग्राम की दो महिला स्व. सहायता समूह द्वारा गोबर खरीदी, वर्मी कंपोस्ट निर्माण, बाड़ी आजीविका योजना गतिविधि के साथ नेपियर घास का उत्पादन, केचुआ उत्पादन, मुर्गी पालन के प्रयास सहित अन्य आय जनित योजना से आत्मनिर्भर बन रही है। गौठान मे कुक्कुड शेड, महिला वर्किंग शेड, खाद भंडारण कक्ष का कार्य प्रगति पर है, जिसके पश्चात यह गौठान परिपूर्ण होने से ग्राम स्वावलंबन का सपना साकार हो जाएगा।


ब्रेकिंग न्यूज़ हिंदी में सबसे पहले पढ़ें NEWKHABAR36.in हिंदी ताजा खबर,लाइव न्यूज अपडेट, पढ़ें सबसे विश्वसनीय हिंदी न्यूज़ वेबसाइट NEWKHABAR36.in हिंदी विज्ञापन ऐड हेतु संपर्क करें


Tags

Post a Comment

0 Comments
* Please Don't Spam Here. All the Comments are Reviewed by Admin.