Type Here to Get Search Results !

ग्रामीण क्षेत्र में स्ट्रीट लाइट लगाने के नाम से चल रहा गोरखधंधा पंचायत फंड पर बाहरी ठेकेदारों की गिद्ध नजर

हरि सिंह ठाकुर जिला ब्यूरो बस्तर 

 बस्तर जिले के ग्रामीण इलाकों में  स्ट्रीट लाइट लगाने का  का खेल विगत 2 वर्षों से  ग्राम पंचायत के ग्रामीण क्षेत्र में धड़ले से  चलाया जा रहा है।  जिसका माई बाप का पता नहीं चल रहा है। क्योंकि संबंधित ठेकेदार को यदि इसकी स्वीकृति आदेश के बारे में पूछा जाता है। तब उचित जवाब नहीं दे पाते कई बार तो केंद्र की योजना बताया जाता है। और कई बार बस्तर प्राधिकरण मद का नाम लिया जाता है, जगदलपुर मे अमूमन ठेकेदारों का विधायक दफ्तर या फिर जिला पंचायत एवं कलेक्टर दफ्तर में अक्सर चक्कर लगाते हुए देखा जाता है। ज्ञात हो कि विगत 2 वर्ष पहले स्ट्रीट लाइट बस्तर जिले से बकावंड, बस्तर  ब्लाक के पंचायत में कुछ जनपद पंचायत बकावंड के राजनीति से जुड़े हुए सक्रिय  लोग  स्ट्रीट लाइट लगाने में जोरदार भूमिका निभाया और अपना मेहनतना भी जमकर निकाल लिया लेकिन विगत 2 वर्षों से आज भी कई ऐसे जनप्रतिनिधि हैं। जिन्होंने स्ट्रीट लाइट लगवाने में अपना भाग्य आजमाया था। 

उनका दुखड़ा तो सुनते ही बनता है ।क्योंकि इस संबंध में कुछ राजनीतिक दल के लोग चोर चोर मौसेरे भाई वाली तथ्य को चरितार्थ करते रहते हैं ज्ञात हो कि स्ट्रीट लाइट पंचायतों में लगने वाली मुद्दे पर बस्तर विकास प्राधिकरण अध्यक्ष श्री बघेल का साफ-साफ कहना है ।कि मुझे इस संबंध में कोई भी पत्र मिला नहीं है और किसी ने भी मुझे इसकी स्वीकृति  नहीं दिया है। मेरा नाम लेकर यदि कोई इस तरह का कृत्य करता है । तो वह गलत है जो स्ट्रीट लाइट लगाने में ठेकेदारी कर रहे हैं। उन्हें कौन से फंड से स्वीकृति मिल चुकी है यह मुझे नहीं पता जो काम करा रहा है। वह जाने मुझे इससे कोई लेना-देना नहीं है।

 दरअसल बात यह है कि यहां जिला प्रशासन की अनुमति के बगैर बिना स्वीकृति के आदेश के बगैर बाहरी ठेकेदार धड़ल्ले से बस्तर जैसे क्षेत्र में 14 /15 वित्त पर निशाना बनाए हुए हैं और पंचायतों से जबरन कार्य पूर्ण होने का प्रमाण पत्र भी लिया जा रहा है। बकायदा प्रति स्ट्रीट लाइट का मूल्य 42500 बता कर 20 /20 नग पंचायत में यह लाइट लगाया जा रहा है।  संबंधित ठेकेदार से चर्चा होती है तो बड़ा ही घुमावदार बात करते हुए गोलमोल जवाब देते हैं ।बऔर फोन रख देते हैं इस तरह से देखा जाए तो बस्तर में 14 / 15 वीं वित्त पर नजर बाहरी ठेकेदारों की बनी हुई है जिस पर लगाम लगाना आवश्यक है।


ब्रेकिंग न्यूज़ हिंदी में सबसे पहले पढ़ें NEWKHABAR36.in हिंदी ताजा खबर, लाइव न्यूज अपडेट, पढ़ें सबसे विश्वसनीय हिंदी न्यूज़ वेबसाइट NEWKHABAR36.in हिंदी |

Tags

Post a Comment

0 Comments
* Please Don't Spam Here. All the Comments are Reviewed by Admin.