Type Here to Get Search Results !

प्रताड़ित कर आत्महत्या करने को मजबूर करने वाले पति को उम्र कैद, अर्थदंड भी

 कोरबा (NEWSKHABAR36.IN) दहेज में एक लाख रूपये नगद व बाइक नहीं देने पर पति, सास, जेठ- जेठानी व चाचा श्वसूर ने नवविवाहिता को प्रताड़ित करने के साथ मारपीट की। इससे त्रस्त होकर नवविवाहिता ने शादी के ढाई वर्ष के भीतर फांसी लगा आत्महत्या कर ली। प्रथम अपर सत्र न्यायालय ने मामले में सुनवाई करते हुए दोष सिद्ध पाए जाने पर पति को आजीवन कारावास व अन्य को सात- सात साल कारावास की सजा सुनाई। साथ ही अर्थदंड भी लगाया


पसान थाना में 24 जुलाई 2019 को रिपोर्ट दर्ज कराई गई कि सुबह आठ से नौ बजे के बीच ग्राम कर्री रेवावती यादव 22 वर्ष ने फांसी लगा कर आत्महत्या कर ली। पुलिस ने मामले में वैधानिक कार्रवाई के बाद शव पोस्टमार्टम करा स्वजनों को सौंप दिया। आत्महत्या लगाने की वजह जानने के पुलिस ने विवेचना शुरू की, तब पता चला कि रेवावती यादव की शादी वर्ष 2017 में ग्राम सिधौरा के दिवाकर यादव पिता महिपाल यादव 28 वर्ष के साथ सामाजिक रीति रिवाज से हुई थी। शादी के लगभग 13 दिन बाद ही रेवावती को उसके ससुराल वाले दहेज के नाम पर एक लाख रूपये नगद व बाइक नहीं लाने पर प्रताड़ित करने लगे। इससे त्रस्त होकर रेवावती फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली। इस पर पुलिस ने मृतका के पति दिवाकर यादव, धीरपाल यादव, उदयलाल यादव, सियावती यादव व सुनिता यादव सभी निवासी ग्राम कर्री के विरूद्ध धारा 304 बी, 34 के तहत मामला दर्ज कर गिरफ्तार किया और न्यायिक दंडाधिकारी प्रथम श्रेणी कटघोरा के न्यायालय में अंतिम अभियोग पत्र प्रस्तुत किया। अतिरिक्त लोकअभियोजक अशोक कुमार आनंद ने बताया कि प्रथम अपर सत्र न्यायालय पीठासीन अधिकारी वेंसेस्लास टोप्पो ने मामले की सुनवाई की। इस दौरान न्यायालय ने प्रकरण में मिले साक्ष्य में यह स्पष्ट हुआ कि मृतका रेवावती के साथ शादी के 13 दिन बाद दहेज के नाम पर प्रताडना प्रारंभ कर दिया गया था। मृतका रेवावती यादव एक दिन खेत में काम करने के लिए साथ में जाने की बात कही, तब पति दिवाकर यादव ने उसे दो- तीन थप्पड़ मार दिया। इसकी वजह से रेवावती ने घर के कमरे के म्यांर में रस्सी से फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली। सुनवाई के दौरान न्यायालय को यह जानकारी भी मिली कि मृतका के दाह संस्कार में उसके ससुराल वाले कोई भाग नहीं लिए, इससे स्पष्ट होता है कि मृतिका द्वारा फांसी लगाकर आत्महत्या किए जाने के पूर्व उसके साथ उसका व्यवहार कैसा था। इस आधार पर न्यायालय ने मृतका के पति दिवाकर यादव को धारा 304 बी में आजीवन कारावास तथा दो हजार रूपये के अर्थदंड से दंडित किया। वहीं मृतका के जेठ उदयलाल यादव, जेठानी सुनीता यादव, चाचा श्वसुर धीरपाल सिंह यादव व सास सियावती यादव सभी आरोपितों को न्यायालय ने सात- सात वर्ष का सश्रम कारावास तथा 500-500 रूपये के अर्थदंड से दंडित किया।


ब्रेकिंग न्यूज़ हिंदी में सबसे पहले पढ़ें NEWKHABAR36.in हिंदी ताजा खबर, लाइव न्यूज अपडेट, पढ़ें सबसे विश्वसनीय हिंदी न्यूज़ वेबसाइट NEWKHABAR36.in हिंदी |



Ads by Jagran.TV

Tags

Post a Comment

0 Comments
* Please Don't Spam Here. All the Comments are Reviewed by Admin.