Type Here to Get Search Results !

पिथौरा= झोला छाप डॉक्टर के इलाज से बच्ची की मौत

पिथौरा= ग्राम टेका के एक झोला छाप डॉक्टर के इलाज से ग्राम कैलाशपुर के एक चार वर्षीय बालिका की मौत हो गयी. इस सम्बंध में स्थानीय सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र के डॉक्टरों ने बालिका की मौत को गलत उपचार से होना बताया है. वही मृतका के पिता ने बताया कि उनकी पुत्री का उपचार टेका का कोई रामचरण नामक कथित डॉक्टर कर रहा था.

मिली जानकारी के अनुसार सोमवार की सुबह कैलाशपुर डोंगरीपाली निवासी जयदेव बरिहा अपनी चार वर्षिय पुत्री प्रमिला बरिहा को दस्त होने के कारण टेका के किसी झोला छाप डॉक्टर के पास उपचार हेतु ले गया था. सुबह कोई 8 बजे टेका के एक निजी कथित क्लीनिक में उसे लगातार दो इंजेक्शन लगाए और उसे घर भेज दिया.

प्रमिला के पिता जयदेव ने स्थानीय डॉक्टरों को बताया कि घर लाकर उसने उसे सुला दिया और स्वयम महुआ बीनने समीप के जंगल चला गया था. जयदेव के जाने के कोई आधे घण्टे के भीतर ही उसे बताया गया कि प्रमिला की तबियत ज्यादा बिगड़ गयी है. इसके बाद आनन फानन में घर पहुचे जयदेव ने वाहन की व्यवस्था कर कोई 10 बजे स्थानीय सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र पहुचाया. जहां जांच के बाद डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया.

  • कार्यवाही नहीं होने से बेख़ौफ़ हैं झोलाछाप  डॉक्टर

सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र के चिकित्सक डॉ चित्रेस डड़सेना ने इस सम्बंध में बताया कि कोई 10 बजे मृतिका प्रमिला को लेकर उसके पिता अस्पताल पहुंचे थे. परन्तु तब तक बच्ची की मौत हो चुकी थी. बच्ची को डायरिया था परन्तु शरीर मे पानी की कमी नहीं थी. जयदेव के बताए अनुसार प्रमिला को दो इंजेक्शन लगाए गए थे जिसके आधे घण्टे में ही उसकी मौत हो गयी संभवतः इंजेक्शन के साइड इफ़ेक्ट से मौत हो सकती है.


ब्रेकिंग न्यूज़ हिंदी में सबसे पहले पढ़ें NEWKHABAR36 हिंदी ताजा खबर, लाइव न्यूज अपडेट, पढ़ें सबसे विश्वसनीय हिंदी न्यूज़ वेबसाइट NEWKHABAR36 हिंदी |

Tags

Post a Comment

0 Comments
* Please Don't Spam Here. All the Comments are Reviewed by Admin.