Type Here to Get Search Results !

पोड़ी उपरोड़ा बीईओ, बीआरसी द्वारा चल रहा 20 लाख का बालवाणी घोटाला : बिना निविदा एक फर्म से

 पोड़ी उपरोड़ा बीईओ, बीआरसी द्वारा चल रहा 20 लाख का बालवाणी घोटाला : बिना निविदा एक फर्म से सांठगांठ कर स्कूलों में खपा रहे घटिया पाठ्य सामाग्री, प्रधान पाठकों पर बना रहे दबाव

खिकराम कश्यप कोरबा 

कोरबा =जिले के पोड़ी उपरोड़ा शिक्षा विभाग में इन दिनों बालवाणी घोटाला सुर्खियां बटोर रहा है, जहां आंगनबाड़ी नौनिहालों के बौद्धिक विकास हेतु शासन से प्रधान पाठकों के खाते में जारी राशि के अधिकतर को डकारने की नीति काम कर रही है तथा नियम- कायदे के विपरीत घटिया पाठ्य सामाग्री स्कूलों में भेज कर शिक्षकों से राशि की दबाव पूर्वक मांग की जा रही है।

उल्लेखनीय है कि पोड़ी उपरोड़ा खण्ड शिक्षाधिकारी कार्यालय अंतर्गत कुल 405 प्राथमिक शाला संचालित है, जिनमे से 130 शाला को बालवाणी योजना से जोड़ा गया है। विभागीय पुष्ट सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार आंगनबाड़ी में अक्षर ज्ञान सीखने वाले नौनिहालों के बौद्धिक विकास हेतु उन्हें प्राथमिक शाला भवन में कक्षा पहली एवं दूसरी के बच्चों के साथ सम्मिलित कर विभिन्न माध्यम से शिक्षा ग्रहण कराया जाना है, जिस हेतु 130 प्राथमिक शाला के प्रधान पाठकों के खाते में शासन द्वारा 15- 15 हजार के हिसाब से कुल 19 लाख 50 हजार की राशि जारी की गई है। जिस राशि से बच्चों के बौद्धिक विकास से जुडी पाठ्य सामग्री खरीदी करनी है। किन्तु यहां पदस्थ बीईओ व बीआरसी द्वारा मिलकर अधिकतर राशि डकारने की नीयत से सारे नियम- कायदे को बलाए ताक में रखकर और प्रधान पाठक के बिना प्रस्ताव व बिना कोटेशन तथा बिना निविदा निकाले रायपुर के एक फर्म से सांठगांठ कर घटिया पाठ्य सामाग्री को अधिग्रहित पाठ शालाओं में सीधे तौर पर भेजा जा रहा है और प्रधान पाठकों को राशि आहरण हेतु दबाव बनाया जा रहा है। इस विषय पर कुछ पीड़ित शिक्षकों ने नाम न उजागर करने की शर्त पर बताया कि अधिकारियों द्वारा उनके स्कूलों में जो पाठ्य सामाग्री पहुँचाई गई है वे बेहद घटिया किस्म के है, जिनकी लागत अधिकतम 3 से 4 हजार रुपए तक की होगी, जबकि पूरे 15 हजार की मांग की जा रही है। बताया गया कि अनेक स्कूलों में उक्त घटिया सामान लेने से मना कर दिया गया है तब उन्हें धमकाया जा रहा है। जिला प्रशासन इस ओर गंभीरता से संज्ञान लेकर उचित कार्यवाही करें ताकि बालवाणी योजना में लाखों का घोटाला न होने पाए और इसका सही लाभ बच्चों को मिल सके।


      ब्रेकिंग न्यूज़ हिंदी में सबसे पहले पढ़ें NEWKHABAR36.in हिंदी ताजा खबर, लाइव न्यूज अपडेट, पढ़ें सबसे विश्वसनीय हिंदी न्यूज़ वेबसाइट NEWKHABAR36.in हिंदी |

Tags

Post a Comment

0 Comments
* Please Don't Spam Here. All the Comments are Reviewed by Admin.