Type Here to Get Search Results !

सरायपाली लंबर= हाथ की रेखाएं क्या मिटी बुजुर्ग महिला का जीना हुआ दुश्वार, खा रही दर-दर ठोकरें


 महासमुंद.= उम्र ढलने और लगातार मेहनत मजदूरी करने की वजह से महासमुंद के सरायपाली विधानसभा अंतर्गत ग्राम लंबर निवासी एक विधवा महिला की हाथों की रेखाएं मिट गई है. इस वजह से फिंगर स्कैन मशीन भी अब उनके अंगूठे की रेखाओं को स्कैन नहीं कर पाती है. ऐसी स्थिति में जीवित होते हुए हाथ के निशान मिटने व आधार कार्ड अपडेट ना होने से वह शासन की योजना से वंचित हो रही है. खाता में पेंशन की राशि जमा हो रही है लेकिन नहीं निकाल पा रही है.

वर्ष में एक बार जीवित पंजीयन करवाया जाता है. जीवित पंजीयन के लिए भी अंगूठे का निशान आवश्यक है, लेकिन अंगूठे का ही निशान मिट गया हो तो जीवित पंजीयन कैसे होगा. इसे लेकर भी संशय की स्थिति बनी हुई है. महिला निराश्रित पेंशन पाने आधार अपडेट के लिए च्वाइस सेंटर व पैसा के लिए बैंक का चक्कर लगा रही है, लेकिन उन्हें विगत 3 माह से निराश्रित राशि नहीं मिल रही है. वह निराश्रित राशि पाने के लिए दर-दर की ठोकर खाते फिर रही है.

महासमुंद जिले के ग्राम लंबर की विधवा महिला नोनीबाई ने बताया कि उन्हें विगत दिसम्बर 2022 से निराश्रित की राशि जो प्रतिमाह 350 रुपए प्राप्त होता था वह नहीं मिल रहा है. महिला ने बताया कि वह अपने गांव लंबर के चॉइस सेंटर से ही प्रतिमाह अंगूठे का निशान लगाकर राशि निकालती थी. आधार अपडेट ना होने पर विगत 3 माह से पेंशन की राशि चॉइस सेंटर से नहीं निकल रहा है. जब च्वाइस सेंटर आधार अपडेट के लिए पहुंची तो उसके दोनों हाथ के पूरे निशान मिट गए थे. कई बार कोशिश के बावजूद भी उसका आधार अपडेट नहीं हुआ. उसका न तो आधार अपडेट हो रहा है और न हीं उन्हें निराश्रित की राशि मिल रही है.

बुजुर्ग महिला राशि पाने बैंक व चॉइस सेंटर का चक्कर लगा-लगा कर थक गई है, लेकिन उन्हें निराश्रित की राशि कहीं नहीं मिल रही है. आधार अपडेट के अभाव में उन्हें तीन माह से पेंशन की राशि भी नहीं मिल रही है. जिससे उन्हें गुजारा करने में भारी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है.


छत्तीसगढ़ के सभी जिलों व ब्लॉक में रिपोर्टरों की आवश्यकता है 
विज्ञापन ऐड हेतु संपर्क करें सस्ते से सस्ते दामों पर=7440874197


Tags

Post a Comment

0 Comments
* Please Don't Spam Here. All the Comments are Reviewed by Admin.