Type Here to Get Search Results !

श्रीमद् भागवत कथा के तीसरे दिन प्रदेश भाजपा के दिग्गज नेताओं सहित समाज प्रमुख रहे उपस्थिति

 सभी धर्मो में रोगी हैं सभी धर्मो में गरीबी है: पंडित हिमांशु कृष्ण

नामदेव साहू छत्तीसगढ़ संपादक 

बसना= श्रीमद् भागवत कथा ज्ञान यज्ञ सप्ताह के तीसरे दिन भक्ति के रंग में पूरी तरह सराबोर बसना कथाव्यास पं. हिमांशु कृष्ण भारद्वाज के मुखारविंद से परीक्षत को श्राप,सुखदेव आगमन, कपिल देवहुति संवाद, ध्रुव चरित्र का प्रसंग सुनकर उत्साह और उमंग से श्रद्धालुओं ने श्रीराधे, राधे-कृष्ण की गूंज के साथ झूमते-गाते नजर आए। कथा में महाराज ने कहा कि सभी धर्मों में रोगी है और सभी धर्मों में गरीबी भी है कुछ लोग किसी विशेष जाति में ही भोजन करते हैं और जैसे ही कुछ की जाति वालों के घर आने जाने की बातें आती हैं तो छुआ छूत मानने लगते हैं। जिससे धर्मांतरण को बढ़ावा मिलता है।जो सबके अंदर में भगवान दर्शन कर लेते हैं उसे किसी विशेष जाति में नही बल्कि प्रत्येक मानव में भगवान दिखाई देते हैं। हिंदू एक ऐसा धर्म है जिसमें जीवन जीने का मार्ग दर्शन मिलता हैं। हिंदू जब जब कहीं जाते हैं उनका सम्मान सभी जगहों पर होता है हिंदुत्व शांति का प्रतीक है जिस जगह पर हिंदुओ का वास होता है वहा हमेशा शान्ति बनी रहती हैं।जो हिंदुत्व को धारण करेगा हम उनका स्वागत वंदन अभिनंदन करते हैं।

कथाव्यास पं. हिमांशु कृष्ण भारद्वाज एवं मुख्य यजमान डॉ. सम्पत सरोज अग्रवाल, उप यजमान सुमित सोनिया अग्रवाल, किशन सृष्टि अग्रवाल सहित सभी उप यजपान उपस्थित श्रद्धालुओं ने श्रीमद् भागवत महापुराण की मंगल आरती कर भागवत कथा का शुभारंभ किया गया। इस दौरान पं. हिमांशु कृष्ण भारद्वाज ने श्री कृष्ण गोविन्द हरे मुरारी, हे नाथ नारायण वासुदेवा हे नाथ नारायण गीतों के साथ श्रद्धालुओं से कहा कि जीवन में कठिनाईयों का सामना हो तो उसे भगवान का प्रसाद मानकर धारण करना चाहिए। सुख और दुख कर्मो का फल है जो समयानुसार ही सब को प्राप्त होता है। 

एक प्रसंग के माध्यम से उन्होंने बताया कि सभी को एक ही अगली में जलाया जाता है चाहे वह अमीर हो या गरीब।अपने जीवन में अच्छे व्यक्ति की संगति करना।

कथास्थल में श्रद्धालुओं महाराज के मधुर गीत घनश्याम तुम्हे देखू मेरे श्याम तुम्हें देखूं, कानो में बाली हो लटके घुंघराली हों पर भाव विभोर नाचते गाते नजर आये।


श्रीमद् भागवत कथा के नारे के लगते हुए कार्यक्रम के संयोजक डॉ. सम्पत अग्रवाल एवं उनके सुपुत्र सुमीत अग्रवाल, अमित अग्रवाल, किशन अग्रवाल को कार्यक्रम के लिए बधाई देते हुए व्यासपीठ में विराजमान पं. हिमांशु कृष्ण महाराज जिनके कथा के माध्यम से परमपिता परमेश्वर के ओर ले जाने का प्रयास कर रहे है। 

 ये महानुभाव महापुरुष, देवी, देवताओं हमारे अतीत के जो अच्छे कृति है जो संस्कृति बनकर के आज भारत मे विराजमान है। जिसका साधु, संत बखान अपनी वाणी में कर रहे ऐसे मौके को ना गंवाए। कार्यक्रम के संयोजक डॉ. सम्पत अग्रवाल एवं आयोजन समिति को बधाई देते व्यासपीठ में विराजमान पं.हिमांशु महाराज आशीर्वाद प्राप्त करते हुए प्रदेश के सुख समृद्धि की कामना करते हुए कहा कि बसना में आयोजित होने वाली श्रीमद् भागवत कथा एक नया इतिहास रच ली है।

श्रीमद् भागवत कथा के तीसरे दिन कार्यक्रम के संयोजक डॉ. सम्पत अग्रवाल ने भाजपा के दिग्गज नेताओं तथा समाज प्रमुखों का सम्मान किया जिसमें

 राम प्रताप सिंह पूर्व संगठन भाजपा,प्रबल प्रताप सिंह जूदेव घर वापसी अभियान प्रभारी व प्रदेश मंत्री भाजपा, राजेंद्र कुमार धर्म जागरण विभाग प्रमुख, राजू सिन्हा जिला उपाध्यक्ष भाजपा, त्रयंबकम राव सोनकक्के नया रायपुर ने पं. हिमांशु कृष्ण भारद्वाज का स्वागत कर आशीर्वाद प्राप्त किया। इस दौरान कार्यक्रम के संयोजक एवं नीलांचल सेवा समिति के संस्थापक डॉ. सम्पत अग्रवाल के द्वारा पं. हिमांशु कृष्ण भारद्वाज के हाथों सभी भाजपा के दिग्गज नेताओं सहित समाज प्रमुख भोग सिंग सिदार आदिवासी समाज, शिव प्रसाद डडसेना मंडलेश्वर कलार समाज, बाबूलाल डडसेना अध्यक्ष कलार समाज बसना, गोपाल प्रसाद गुप्ता हलवाई समाज प्रमुख, वेणु धर साहू पूर्व सैनिक, यशवंत छाबड़ा सिक्ख समाज पिथोरा आदि का श्रीराधे कृष्ण की माला पहनाकर एवं प्रतीक चिन्ह देकर सम्मानित किया।

श्रीमद् भागवत कथा के तीसरे दिन यजमान के रूप में ये रहे उपस्थित 

 डॉ. सम्पत सरोज अग्रवाल, उप यजमान सुमित सोनिया अग्रवाल, अमित रिंकी अग्रवाल, किशन सृष्टि अग्रवाल, मुरारीलाल राजकुमारी अग्रवाल, दयाराम रामकली अग्रवाल, जयंतीलाल चन्द्रकला अग्रवाल, राहूल प्रगति अग्रवाल, विजय रश्मी अग्रवाल, सुशील नेहा अग्रवाल, सुनील दुर्गा अग्रवाल, ज्योति ममता अग्रवाल, निर्मल वीना दास, विकास अंशु वाधवा, देवचरण माला अग्रवाल, अशोक रीना अग्रवाल, शंकर सुमन अग्रवाल, नन्दकिशोर लक्ष्मी अग्रवाल, मुकेश नीलिमा प्रधान, बृजेश सोनीदेवी यादव, कमलध्वज जमुना पटेल, मुकेश सुमन दुबे, रामरतन अंजना अग्रवाल, नरेश रेखा अग्रवाल, श्याम सुन्दर मीना अग्रवाल, कीर्तिलाल किरण फूलमोती पटेल, ओमप्रकाश किरण अग्रवाल, शैलेश सगुन अग्रवाल, गजानन अरुणा अग्रवाल, बिष्णु लक्ष्मी अग्रवाल, राजकुमार गीता अग्रवाल, विकास भारती अग्रवाल, श्याम कांता अग्रवाल,रघुवीर उमा अग्रवाल उपस्थित रहें।

Tags

Post a Comment

0 Comments
* Please Don't Spam Here. All the Comments are Reviewed by Admin.