Type Here to Get Search Results !

सरायपाली : रेत परिवहन करने वाले को पत्रकार ने दिखाई धौंस... एसडीएम को फोन कर बुलाने की धमकी, पुलिस मे हुआ मामला दर्ज

 

नामदेव साहू छत्तीसगढ़ संपादक 

महासमुंद जिले ने एक बार फिर पत्रकारिता जगत को कलंकित किया है, जिले के सरायपाली थाना क्षेत्र में पत्रकारिता के नाम पर गाड़ी रोककर अवैध वसूली करने का मामला सामने आया है. मामले का मुख्य आरोपी जिले के प्रतिष्टित दैनिक अखबार नवभारत से है. जिसपर पुलिस ने धारा 341-IPC, 384-IPC, 395-IPC पंजीबद्ध कर विवेचना में लिया है.


वैसे तो सरायपाली-बसना क्षेत्र में कई लोग पत्रकारिता की आड़ में अवैध करनामों को अंजाम दे रहे हैं, जिसमें कई बार विभाग की मिलीभगत का भी अंदेशा रहता है, पत्रकारिता की आड़ में देर रात तक अवैध धान का परिवहन करने वालों को पायलेटिंग देकर ठिकाने तक धान पहुँचाना, इसी तरह पलायन कराने वाले दालालों को रोककर अवैध वसूली, जैसे कई कार्य पत्रकारिता को छोड़कर इनका मुख्य पेशा बन चूका है.

ऐसे ही अपने ट्रक से रेत का परिवहन करने वाले लोकनाथ पटेल का सामना 3 जनवरी को नवभारत के संवाददाता राजेन्द्र यादव से हुआ, लोकनाथ 3 जनवरी को अपनी गाड़ी में हाइवा में रेत भरकर जांजगीर जिला से बलौदा चौकी के ग्राम अमेलडीह में शासकीय नहर कार्य के लिए रेती ढुलाई कर रहा था.

इसी दौरान लगभग दोपहर 4 बजे पालीडीह मोड़ के पास एक नया लाल कलर की कार क्रमांक सीजी. 06 जी.एस. 9813 एवं एक सफेद नया एसयुव्ही कार में पांच लोग आए और लोकनाथ की गाड़ी के सामने अपने दोनों गाड़ी लगाकर ड्रायवर कौन है गाड़ी से नीचे उतर बोलने लगे.

इसपर लोकनाथ जब गाड़ी से नीचे उतर गया और उनसे पूछा की क्या हुआ सर आप मेरे गाड़ी के सामने अपने गाड़ी क्यों लगा दिये हो और मुझे नीचे उतरने के लिए क्यों बोले हो. तब उनमें से एक व्यक्ति गाड़ी मे चढकर चाबी निकाल लिया और अपने आप को राजेन्द्र यादव, नवभारत का पत्रकार सरायपाली क्षेत्र का रिपोर्टर हूँ, तुम अपनी गाड़ी का कागजात एवं रेत परिवहन कर रहे हो उसका पेपर दिखाओ कहा.


जिसपर लोकनाथ अपने साथ में गये लोचन चौधरी को गाड़ी का कागजात एवं रॉयल्टी पेपर गाड़ी की केबिन से निकालकर लाने को बोला तब लोचन चैधरी गाड़ी से पेपर लेकर नीचे उतरा और उसे दे दिया.

इसके बाद लोचन घबराकर लोकनाथ के बगल में खड़ा हो गया, जिसके बाद राजेंद्र यादव ने सारे पेपर चेक करने के बाद लोकनाथ को धमकाया कि तुम अवैध रेत परिवहन करते हो तुम्हारे पास जो रॉयल्टी पेपर है वो दुसरे जिले का है, तुम्हारी गाड़ी को थाना ले जाना पड़ेगा, आगे क्या करना है बताओ तुम क्या चाहते हो थाना जाओगे की मामला को यहीं निपटाओगे. अगर यहीं निपटाओगे तो पचास हजार रुपया लगेगा, क्या करना है बताओ नही तो थाना मे फोन कर रहा हूँ.


जिसपर लोकनाथ ने मेरे पास उतना पैसा नहीं है सर गरीब आदमी हूं, जब कमाता हूं तब खाता हूं कहा तो वह गुस्सा होकर बोला तुम डायलॉग बाजी करते हो जब कमाता हूं तब खाता हूं बोलते हो पचास-साठ लाख का गाडी चलाते हो और गरीब हूं बोलते हो, अभी तुम्हारे गाड़ी का तलाशी लेता हूँ बोला और सफेद कलर की एस यु व्ही कार में बैठे अपने साथियो को बुलाया और गाड़ी का तलाशी लेने के लिए बोला और साइड का दरवाजा को खोलकर घुस गये.


दोनों मिलकर गाड़ी के केबिन, डिक्की, और सीट जगह को खोजबीन कर डिक्की से पर्स को निकाल लिए जिसमें 21400 रुपए लेकर बोले की तुमको गाड़ी थाना नही लेना है तो 30 हजार और मगवा लो अपने घर से तभी तुम्हारा गाड़ी छोडेंगे, नही तो एस.डी.एम को फोन करके बुला रहे हैं बोले और 10 मीटर दुर खड़ी सफेद कलर की एस यू व्ही कार के पास गये और आपस मे उन लोग बातचीत किये और उसके पास आकर गाड़ी का चाबी, पेपर फाइल, आधार कार्ड पर्स को मेरे सामने फेंक दिये और वहां से चले गये और बोले कि इस रोड में दुबारा दिखना मत और सभी लोग अपने-अपने कार मे बैठ गये और चले गये.


जिसके बाद लोकनाथ ने जमीन पर पड़े सारे सामान को उठाया और देखा कि उसके पर्स में सिर्फ आधार कार्ड था, पर्स के सारे पैसे गायब थे.

इसके बाद लोकनाथ और लौचन चैधरी गाड़ी में रेत खाली करने ग्राम अमलडिह जा रहे थे, तभी पलसापाली के पास दोनो कार फिर से उनकी गाड़ी का पीछा करने लगे, इसके बाद सभी अमलडीह पंहुचे, जहाँ शासकिय नहर निर्माण कार्य चल रहा था. वहां कार से पांच लोग नीचे उतरे सभी अपने-अपने मोबाइल फोन निकालकर फोटो खींचने लगे व विडियो बनाने लगे. और बिना कुछ बोले चले गये



Tags

Post a Comment

0 Comments
* Please Don't Spam Here. All the Comments are Reviewed by Admin.