Type Here to Get Search Results !

तूरपूरा में मनाया गया पाण्ड लक्ष्मी जागर उत्सव

हरि सिंह ठाकुर जिला ब्यूरो बस्तर 

बस्तर ----विकास खंड बस्तर के तुरपुरा में  जगार उत्सव के रूप में धूमधाम से मनाया गया । मां लक्ष्मी  जगार मुख्यतः धान रुपी लक्ष्मी और नारायण के विवाह से सम्बंधित कथाओं का अनुष्ठान है। यह अनुष्ठान कृषि संस्कृति में धान अवं अन्य अनाजों के मध्य प्रतिस्पर्धा और उनके अन्तर्सम्बन्धों को प्रतिबिंबित करता है। 

जगार का अर्थ "जग" यानी "यज्ञ" है। महायज्ञ! जिसके माध्यम से देवी-देवताओं का आह्वान किया जाता है। इसके माध्यम से गुरुमांयें उन्हें जगाती हैं।  और उनकी पूजा-अर्चना करती हैं, उनके गुण-गान करती हैं। उनकी गाथा गाती हैं। यही कारण है कि  सभी जगारों के गायन के आरम्भ में ही गुरुमांयें विभिन्न देवी-देवताओं का आह्वान करती हुई उन्हें जागने और इस यज्ञ में आने का न्योता देती हैं।

पहले  जगारों का आयोजन प्राय: सामूहिक रूप से हुआ करता था। किन्तु "आठे जगार", "तीजा जगार" और "लछमी जगार" का आयोजन व्यक्तिगत तौर पर भी किया जाता रहा है। "बाली जगार" ही एक ऐसा जगार है, जिसका आयोजन व्यक्तिगत तौर पर होता ही नहीं।  जब जगार सामूहिक तौर पर होता है तो उसे "गाँव जगार" भी कहा जाता है। "तीजा जगार" को प्राय: "धनकुल" भी कहा जाता है।


यदि आयोजन सामुदायिक है तो गाँव की देवगुड़ी या किसी भी सार्वजनिक स्थल पर आयोजित होता है। व्यक्तिगत होने पर आयोजक के घर पर। किन्तु "बाली जगार" की विशेषता यह है कि इसका आयोजन प्राय: गाँव के पुजारी के घर पर ही होता आया है। इस अवसर  सरपंच जयमनी कश्यप  सरपंच पति सोमारू राम कश्यप जागेश्वर ठाकुर भोला ठाकुर  , थलेन्द्र सिंह ठाकुर,, पढियार हेमसिंह ठाकुर , अशोक ठाकुर, कामे ठाकुर , कालेंद्र ठाकुर , सिरहा गुनिया मांझी पुजारी एवं ग्राम के भारी संख्या में उपस्थित ग्रामीण मौजूद थे ।

Tags

Post a Comment

0 Comments
* Please Don't Spam Here. All the Comments are Reviewed by Admin.