Type Here to Get Search Results !

ओडिशा से महाराष्ट्र भेजी जा रही थी 16 बालिकायें=खरियार रोड पर महासमुंद पुलिस ने दलाल के इरादे पर फेरा पानी

महासमुंद=जिले के पूर्वी सीमा से सटे पड़ोसी राज्य ओड़ीशा के प्रथम नगर खरियार रोड की पुलिस ने बीते हफ्ते अंचल के ग्राम्य क्षेत्र से काम के बदले अधिक दाम का लालच देकर नागपुर भेजी जा रही 16 बालिकाओं की टीम को खरियार रोड स्टेशन से रवाना होने के पूर्व ही रोक लिया। 

नामदेव साहू छत्तीसगढ़ संपादक Newskhabar36

मिली जानकारी के अनुसार कोमना थाना क्षेत्र के विभिन्न गांवों से युवा व नाबालिग बालिकाओं को अधिक मेहताना का लालच देकर नागपुर ले जा रहे युवक अजय कुमार साह को खरियार रोड पुलिस ने गिरफ्तार किया है। युवक के साथ जा रही 16 बालिकाओं को भी पुलिस ने खरियार रोड स्टेशन में नागपुर रवाना होने के पहले ही अभिरक्षा में ले लिया। खरियार रोड पुलिस को मुखबिर से सूचना मिली थी कि 15-16 युवा लड़कियों को महाराष्ट्र के नागपुर के एक अज्ञात श्रमिक सरदार (दलाल) द्वारा प्रवासी श्रमिकों के रूप में नागपुर ले जाया जा रहा है। 


सूत्र ने यह भी पुष्टि की कि सभी लड़कियों को कोमना क्षेत्र के विभिन्न गांवों से खरीदा गया है और ज्यादा पैसे का लालच देकर श्रमिक कार्य के लिए ट्रेन से नागपुर ले जाया जा रहा है। पुलिस ने पाया कि सुबह 3 बजे जलाराम चौक के पास विभिन्न आयु वर्ग के कुल 16 बालिकाओं के पास उनके सामान और बैग थे और उनका नेतृत्व उनके साथ एक युवा पुरुष कर रहा है। पूछने पर उन्होंने अपना नाम और पता बताया। जिसके अनुसार जयमती धारुआ (24), गायत्री धारुआ (21), सबिता मांझी (15), खिरामती मांझी(21), नीलाबती मांझी (21), सजना मांझी(21), क्षेमिन मांझी (20), देमती मांझी (18), उकता मांझी (19), पिरोमती मांझी (16), जसोदा मांझी (22),  भानुमति मांझी (18) सभी गांव दरलीपाड़ा, पी.एस. कोमना जिला- नुआपाड़ा, शकुंतला मांझी (22), रामुला मांझी (17), बसंती मांझी (17), नेपुरा मांझी (20) के साथ जो व्यक्ति बालिकाओं को नागपुर ले जा रहा था उसने खुद को अजय कुमार साह (29), पिता भूपिंदर साह, निवासी बिहारी टोला, वार्ड नंबर 29, पीएस- बरौनी, जिला- बेगूसराय, बिहार निवासी होना बताया। तथा स्वयं को सूर्याम्बा स्पिनिंग मिल, नागपुर, महाराष्ट्र के प्रभारी बताया।

पूछताछ के दौरान जयमती धारुआ नाम की एक बालिका ने खुलासा किया कि वे सभी मजदूर वर्ग के परिवारों से ताल्लुक रखती हैं। 18 अक्टूबर को अजय कुमार साह उनके गांव आए और अपनी पहचान सूर्याम्बा स्पिनिंग मिल, नागपुर के प्रभारी के रूप में देते हुए उन्हें उक्त कताई मिल में एक अच्छी नौकरी देने का आश्वासन दिया और श्रम कार्य के लिए मोटी रकम देने का लालच दिया। अजय साह ने यह भी कहा कि उक्त कताई मिल में काम करने के लिए उसके लिए अधिक से अधिक महिला श्रमिकों को नागपुर ले जाने के लिए और बालिकाओं की व्यवस्था करें। फिर वह गाँव और आस-पास के गाँवों में चला गया और विभिन्न आयु वर्ग की 16 लड़कियों को उच्च वेतन देने का लालच देकर खरीद लिया। उसके प्रलोभन से प्रभावित होकर सभी युवतियां उक्त अजय कुमार साह के नेतृत्व में खरियार रोड में नागपुर जाने के लिए ट्रेन पकड़ने गई थी।


पूछने पर बाकी लड़कियों ने भी यही कहा और कहा कि उक्त अजय कुमार साह द्वारा उन्हें एक पैसा भी अग्रिम भुगतान नहीं किया है। अजय कुमार साह द्वारा ओडिशा राज्य के बाहर श्रम कार्य के लिए परिवहन के लिए कोई लाइसेंस प्रस्तुत नही किया जा सका। छुड़ाई गई लड़कियों में तीन नाबालिग लड़कियां भी शामिल थीं।आरोपी के खिलाफ पुलिस द्वारा तीन नाबालिग लड़कियों सहित 16 लड़कियों का परिवहन अवैध साबित होने पर अजय कुमार साह द्वारा श्रम कानूनों के उल्लंघन में श्रम कार्य के लिए ओडिशा के बाहर ले जाने के लिए तस्करी किए जाने के आरोप में धारा 370(3)(5)/417 आईपीसी/25 आईएसएमडब्ल्यू (रोजगार और सेवा की शर्तों का विनियमन) अधिनियम- 1979 के तहत कार्रवाई की गई है।

Tags

Post a Comment

0 Comments
* Please Don't Spam Here. All the Comments are Reviewed by Admin.