Type Here to Get Search Results !

साल में एक बार खुलने वाला अलोर के पहाड़ीयो में स्थित मां लिंगेश्वरी का पट दर्शनार्थियों के लिए आज खुला

 कोण्डागांव जिले में स्थित ग्राम आलोर के ऊंची पहाड़ियों पर विराजे मां लिंगेश्वरी की गुफा का द्वार आज सुबह खोला गया जहां रात्रि से ही गुफा से लगभग 3 किलोमीटर लंबी कतार मे हजारों की संख्या में भक्तगण मां लिंगेश्वरी के दर्शन करने पहुंचे  कोरोना के चलते माता लिगेश्वरी का पट 2 वर्षों तक नहीं खुल सका ।

हरि सिंह ठाकुर जिला ब्यूरो बस्तर 
देवी देवताओं की आस्था के लिए पूरे विश्व में प्रसिद्ध मां लिंगेश्वरी कोण्डागांव जिले मे ग्राम आलोर पहाड़ियों की गुफा में विराजमान है जहां गुफा का यह पट भाद्र शुक्ल पक्ष में हर वर्ष सिर्फ एक दिन के लिए खोला जाता है जहां हजारों की संख्या में दर्शनार्थी अपनी मनोकामना लेकर माता के दर्शन करने पहुंचते हैं यहां अधिकांश निसंतान दंपत्ति संतान की प्राप्ति के लिए आते हैं । 

साल में एक बार खुलने वाला इस मंदिर से लोगों की आस्था अटुट है जो भी भक्त यहां संतान प्राप्ति की मनोकामना लेकर आते है माता लिंगेश्वरी उनकी मनोकामना जरूर पूरी करती हैं । मां लिंगेश्वरी के मंदिर मे छत्तीसगढ़ ही नहीं दूसरे राज्य से भी यहां लोग अपनी मनोकामना लेकर पहुंचते हैं। 

इस मंदिर की एक और विशेषता यह है कि यहां निसंतान दंपति द्वारा माता लिंगेश्वरी को खीरा के रूप मे प्रसाद चढ़ाये जाते है जिसे पुनः पंडित पुजारी द्वारा उस निसंतान दंपति को दिया जाता है जिसे अपने नाखून से दो भागों में फाड़ कर निसंतान दंपति इस प्रसाद को ग्रहण करते हैं। ऐसा करने पर उन्हें संतान रत्न की प्राप्ति अवश्य होती है इसकी कई उदाहरण देखे जा सकते हैं 

   मां लिंगेश्वरी गुफा के नीचे प्रांगण में प्रतिवर्ष एक दिन का मेला का आयोजन किया जाता है । मां लिंगेश्वरी सेवा समिति द्वारा बताए अनुसार रात्रि से ही लोगों का आना जाना जारी है और आज अब तक लगभग 80 हजार दर्शनार्थी माता जी का दर्शन कर चुके हैं ।और यह दर्शन निरंतर जारी है । समिति द्वारा स्वास्थ्य विभाग एवं पुलिस विभाग की उचित व्यवस्था रखी गई है। जिससे आगंतुकों को किसी तरह से कोई दिक्कत का सामना करना ना पड़े ।साथ ही खिचड़ी प्रसाद भंडारा का आयोजन किया गया ।


Tags

Post a Comment

0 Comments
* Please Don't Spam Here. All the Comments are Reviewed by Admin.