Type Here to Get Search Results !

छत्तीसगढ़ी = लोक कलाकार गोफेलाल गेंदले बना कातिल, कत्ल के जुर्म में पहुंचा सलाखों के पीछे, जानिए किस शख्स को उतारा मौत के घाट

 छत्तीसगढ़ी संगीत की दुनिया में गोफेलाल गेंदले एक बड़ा चेहरा और बड़ा नाम है. यूट्यूब में उनके सैकड़ों गाने भरमार है. किसी ने सोचा भी नहीं होगा कि स्वर के धनी इस कलाकार के मासूम चेहरा के पीछे घिनौना राज छिपा है. इस कलाकर को मुंगेली पुलिस ने हत्या के जुर्म में गिरफ्तार कर जेल भेज दिया है. वो भी ऐसे शख्स की हत्या, जिसने कभी इनके जुर्म को अपने ऊपर ले लिया था.

गोफेलाल पर आरोप है कि उसने अपने एक साथी के साथ मिलकर एक युवक की पत्थरों से कुचल कर हत्या कर दी. इसके बाद शव को निर्माणाधीन पुल से नीचे फेंक दिया. बताया जा रहा है कि मरने वाला युवक गोफेलाल गेंदले के कहने पर चोरी से ट्रैक्टर ट्राली खरीदने का आरोप अपने ऊपर लेकर जेल गया था और चोरी के आरोप में जेल जाने के बदले अपना हिस्सा मांग रहा था. अभी तक हत्या में शामिल गोफेलाल का साथी फरार है. मामला मुंगेली जिले के जरहागांव थाना क्षेत्र का है.

जानिए पूरा मामला

जरहागांव थाना प्रभारी भूपेंद्र चंद्रा ने बताया कि 21 जुलाई 2022 कि सुबह करीब 7 बजे जरहागांव थाना में मोबाइल से सूचना मिली कि एक अज्ञात व्यक्ति धरमपुरा से दशरंगपुर के बीच में निर्माणाधीन पुल के पास नाले में घायल पड़ा हुआ है. सूचना पर पुलिस के पहुंचते तक घायल को 108 एंबुलेंस से जिला अस्पताल मुंगेली ले जाया जा चुका था. घटना की जानकारी उच्चाधिकारियों को देकर जिला अस्पताल में भी पहुंचकर तस्दीक करने पर पता चला कि उक्त अज्ञात व्यक्ति की इलाज के दौरान मौत हो गई. मृतक की पहचान राजकुमार पात्रे निवासी हरिहरपुर, जिला बेमेतरा के रूप में हुई. इसके बाद पुलिस ने शव को पोस्टमार्टम के भेजा और मामले की जांच में जुट गई.

मुखबिर एवं मृतक के परिजनों ने बताया कि लगभग पांच छह माह पूर्व हरिहरपुर निवासी प्रसिद्ध लोक गायक गोफेलाल गेंदले ने चोरी का ट्रैक्टर ट्राली खरीदा था. मृतक राजकुमार पात्रे ने गोफेलाल गेंदले के कहने पर चोरी से खरीदने का आरोप अपने ऊपर लेकर जेल गया था. इस दिशा में जांच आगे बढ़ाते हुए जरहागांव पुलिस ने तत्काल साइबर सेल मुंगेली से तकनीकी मदद लेते हुए घटना स्थल पर घटना के समय आरोपी गोफेलाल गेंदले की उपस्थिति सुनिश्चित होने तथा उसके विरुद्ध पर्याप्त सबूत पाए जाने पर तत्काल गोफेलाल गेंदले को हिरासत में लेकर पूछताछ की, जिसमें उसने अपराध कबूल किया.

पुलिस को करता रहा गुमराह

गोफेलाल गेंदले लगातार पुलिस को गुमराह करता रहा और हत्या करना स्वीकार नहीं कर रहा था. इसके बाद उसे मनोवैज्ञानिक तरीके से पूछताछ करने एवं उसके विरुद्ध जुटाए गए सबूतों को दिखाकर कड़ाई से पूछताछ करने पर गोफेलाल ने अपना गुनाह कबूल किया. पूछताछ में उसने बताया कि उसके द्वारा लगभग 6 माह पूर्व एक ट्रैक्टर ट्राली किसी व्यक्ति से खरीदा गया था, जो चोरी का था. पुलिस को पता चलने पर उसके कहने पर मृतक राजकुमार पात्रे चोरी के आरोप को अपने ऊपर लेकर जेल चला गया था. इसके बदले में उसके द्वारा मृतक को एक मोटरसाइकिल एवं कुछ पैसा देने का वादा किया गया था. जेल से छूट कर आने के बाद राजकुमार बाइक के लिए परेशान करने लगा. इससे तंग होकर 20 जुलाई को अपने साथी मनीष अनंत पिता सुखनंदन अनंत के साथ मिलकर उसकी हत्या करने योजना बनाई.

20 जुलाई को जब राजकुमार बिलासपुर से वापस अपने गांव आया तो गोफेलाल गेंदले तथा मनीष अनंत व देवचरण कोसले टेमरी ग्राम में एक साथ बैठकर शराब पिए. उसके बाद आरोपी गोफेलाल के कार धरमपुरा दशरंगपुर के बीच पहुंचे. यहां गाड़ी खड़ी करके गोफेलाल तथा मनीष ने मृतक राजकुमार को गाड़ी से उतार कर हाथापाई करने लगे और हत्या करने की नियत से पत्थर मारने लगे. इस लड़ाई झगड़े को देखकर देवचरण कोसले डरकर वहां से भाग गया. आरोपी गोफेलाल एवं मनीष अनंत ने राजकुमार को मरा हुआ समझकर सड़क किनारे नाले में फेंक कर वहां से चले गए. इलाज के दौरान राजकुमार की जिला अस्पताल में मौत हो गई.

Tags

Post a Comment

0 Comments
* Please Don't Spam Here. All the Comments are Reviewed by Admin.