Type Here to Get Search Results !

महासमुंद= कांग्रेस नेता सूर्यकांत और अन्यों के यहां आयकर विभाग का छापा; पकड़ी गई अरबों रुपए की गड़बड़ी

नामदेव साहू महासमुंद 

दूसरे राज्य में सूर्यकांत एयरपोर्ट से सीधे ले जाया गया आयकर कार्यालय

महासमुंद= स्थानीय कांग्रेस नेता सूर्यकांत तिवारी और उसके दोस्त ठेकेदार अजय नायडू के निवास पर बीते गुरुवार की सुबह इनकम टैक्स की टीम द्वारा छापेमारी के बाद लगातार 36 घंटे से भी अधिक समय तक इनकम टैक्स विभाग की कार्रवाई चलती रही और दस्तावेज खंगाले जाते रहे जिनमें करोड़ों रुपए के लेनदेन संबंधी दस्तावेज और भारी मात्रा में नगद राशि पाए जाने की जानकारी मिली है। कांग्रेस नेता सूर्यकांति वाली और उसके एक सहयोगी को अन्य प्रदेश से गिरफ्तार कर हवाई मार्ग से रायपुर लाए जाने के बाद एयरपोर्ट से ही सूर्यकांत तिवारी और उसके सहयोगी को आयकर विभाग की टीम द्वारा पूछताछ के लिए सीधे सिविल लाइन स्थित आयकर कार्यालय ले जाया गया है। भरोसेमंद सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार आयकर विभाग को सूर्यकांत तिवारी के महासमुंद निवास सहित अन्य स्थानों के छापेमारी में 100 करोड से भी अधिक के लेन-देन के साक्ष्य मिले हैं साथ ही 7 करोड़ के गहने हैं और 12 करोड़ के नकदी बरामदगी की भी खबर है। छापे में विभिन्न प्रकार के खनिजों को लेकर नगद राशि आने और 7 लोगों को बांटे जाने के लिए साक्षी मिले हैं। आयकर विभाग की टीम द्वारा सूर्यकांत तिवारी अजय नायडू सहित सूर्यकांत के तिवारी के सहयोगी निखिल चंद्राकर तथा ट्रांसपोर्टर जोगिंदर सिंह आदि आधा दर्जन ठिकानों पर एक साथ दबिश दी गई थी। छापे की कार्रवाई में बेंगलुरु नागपुर दिल्ली भोपाल जबलपुर आदि जगहों के लगभग डेढ़ सौ आयकर अधिकारी शामिल थे वहीं लगभग डेढ़ सौ केंद्रीय सुरक्षा बल के जवान भी तैनात किए गए थे। आयकर विभाग द्वारा सूर्यकांत तिवारी और उसके साथी को आयकर अधिनियम 1961 की धारा 131 के तहत पहले से ही पूछताछ के लिए सम्मन भेजा गया था।

छात्र जीवन एनएसयूआई के माध्यम से अपना राजनीतिक सफर प्रारंभ करने वाले सूर्य कान की बाली छत्तीसगढ़ राज्य बनने के पूर्व तक पंडित विद्या चरण शुक्ला कट्टर समर्थक के रूप में अपनी पहचान बना चुके थे। छत्तीसगढ़ राज्य बनने के बाद मुख्यमंत्री अजीत जोगी के अत्यंत करीब हो गए। और अब वे मुख्यमंत्री भूपेश बघेल के निकटतम हस्तियों में से एक समझे जाते हैं। रिश्ते में दे छत्तीसगढ़ बीज विकास निगम के अध्यक्ष अग्नि चंद्राकर के दामाद भी है ।
जानकारी के मुताबिक सूर्यकांत टीवारी और अन्य के यहां छापे के पूर्व आयकर विभाग द्वारा 3 महीने तक नजर रखी गई थी साथ ही बैंक ट्रांजैक्शन संबंधित पूरी जानकारी एकत्र करने के बाद छापेमारी की कार्रवाई को अंजाम दिया गया । पूरी जांच के बाद और भी बड़े-बड़े लोगों के नाम सामने आने की संभावना प्रकट की जा रही है।
Tags

Post a Comment

0 Comments
* Please Don't Spam Here. All the Comments are Reviewed by Admin.