Type Here to Get Search Results !

बस्तर= टेलीफोनिक फ्राॅड के मामले में बस्तर पुलिस की बड़ी कार्यवाही सरकारी नौकरी एवं सीम के वेरिफिकेशन के नाम पर किया गया था ठगी।

हरि सिंह ठाकुर ब्यूरो बस्तर

 टेलीफोनिक फ्राॅड के मामले में बस्तर पुलिस की बड़ी कार्यवाही दो मामलो में तीन आरेापियों पर थाना कोतवाली, दरभा एवं सायबर सेल की कार्यवाही सरकारी नौकरी एवं सीम के वेरिफिकेशन के नाम पर किया गया था ठगी।दोनो मामलो में 06 लाख 80 हजार रूपये की हुई थी ठगी तीनो आरोपी बिहार, (जिला नालंदा) के निवासी,02 लाख 89 हजार नगद बरामद जप्त सम्पत्ति:- लैपटाप-03, मोबाईल-18, टैबलेट-1, एटीएम कार्ड-9, पेनड्राईव-2, सिम कार्ड-38 नग एवं अन्य आवश्यक दस्तावेज

 विवरणः- बस्तर= उप महानिरीक्षक एवं वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक श्री जितेन्द्र सिंह मीणा के नेतृत्व में बस्तर पुलिस द्वारा आपराधिक तत्वों के विरूद्ध लगातार कार्यवाही किया जा रहा है। टेलीफोनिक फ्राॅड के मामले में उप महानिरीक्षक एवं वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक श्री जितेन्द्र सिंह मीणा के द्वारा रूचि लेकर विशेष अभियान चलाकर आरोपियो की पतासाजी एवं विवेचना किया जा रहा है। इसी तारतम्य में दो अलग-अलग मामले जिसमें सरकारी नौकरी दिलाने का झांसा देकर एवं सीम बंद होने की बात कहकर  दुबारा चालु करने हेतु वेरिफिकेशन के नाम पर ठगी करने वाले 02 गिरोह के तीन आरोपियो पर कार्यवाही करने में बस्तर पुलिस को बडी सफलता मिली है। ज्ञात हो कि बस्तर जिले में टेलीफोनिक फार्ड के बढते मामलो को देखते हुए उप महानिरीक्षक एवं वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक श्री जितेन्द्र सिंह मीणा, अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक ओमप्रकाश शर्मा के मार्गदर्शन एवं नगर पुलिस अधीक्षक हेमसागर सिदार, अनुविभागीय अधिकारी (पुलिस) केशलुर ऐश्वर्य चन्द्राकर, उप पुलिस अधीक्षक नोडल सायबर सेल श्रीमती गीतिका साहू के पर्यवेक्षण में टीम गठित कर आपराधिक प्रकरणो का अनुसंधान किया जा रहा है।

(1) प्रकरण (सरकारी नौकरी दिलाने के नाम पर ठगी) :- जून 2022 के दौरान मामले के प्रार्थी गणेश राम कश्यप निवासी पाथरी जो कलेक्टर कार्यालय जगदलपुर में सहायक ग्रेड 03 के पद हेतु आवेदन पत्र प्रस्तुत किया गया था। उक्त अभ्यर्थी को अज्ञात आरोपी द्वारा मोबाईल फोन के माध्यम से अपने आप को जिला कलेक्टर कार्यालय जगदलपुर का स्टाॅफ होना बताकर अभ्यर्थी को सहायक ग्रेड-03 की नौकरी दिलाने के नाम पर कुल 20 हजार रूपये की मांग कर राशि अपने खाते में डलवाकर प्रार्थी को फर्जी नियुक्ति आदेश जारी कर ठगी किया गया था ठगी के संबंध में प्रार्थी को ज्ञात होने पर प्रार्थी गणेश राम कश्यप के रिपोर्ट पर संबंधित काॅलर मोबाईल धारक एवं खाता धारक के विरूð थाना कोतवाली में ठगी (धारा 420 भादवि0 66(डी) आईटी एक्ट) का अपराध पंजीबद्ध कर अनुसंधान में लिया गया। दौरान अनुसंधान के मामले में आरोपी के बैंक खातों के विश्लेषण एवं तकनीकी साक्ष्यों के आधार पर संदेही के उपस्थिति की जानकारी बिहार में मिलने पर, निरीक्षक किशोर केंवट, दिनेश यादव के नेतृत्व में टीम गठित कर बिहार रवाना किया गया था। उक्त टीम के द्वारा जिला नालंदा में संदेह के आधार पर एक व्यक्ति को घेराबंदी कर पकड़ा गया। जिनसे पूछताछ करने पर जिसने अपना नाम चन्दन कुमार निवासी नालंदा बिहार का होना बताए जिनसे पुछताछ करने पर इसकेे द्वारा प्रार्थी गणेश राम कश्यप को मोबाईल फोन के माध्यम से सरकारी नौकरी दिलाने के नाम पर 20 हजार रूपये ठगी करना स्वीकार किया। आरोपी के कब्जे से घटना कारित मोबाईल, लैपटाप, नगद राशि एवं अन्य आवश्यक दस्तावेज बरामद कर जप्त किया गया है। मामले में आरोपी चंदन कुमार को गिरफ्तार कर जगदलपुर लाया गया है। आरोपी द्वारा छ.ग. के अन्य जिलों में भी अपराध कारित करना स्वीकार किया गया है जिस  संबंध में जानकारी लिया जा रहा है ! 

 तरीका वारदात:- आरोपी चन्दन कुमार के द्वारा गुगल सर्च इंजन पर ‘‘छत्तीसगढ़ रिक्वायरमेंट’’ की साईट पर जाकर रिकु्रटमेंट जिसमें छत्तीसगढ शासन एवं अलग-अलग जिलो के शासकीय नौकरी के विज्ञापन एवं वैकंेसीं जिसमें अभियर्थी की जानकारी रहती थी जहा से अभ्यर्थी की जानकारी लेकर दिये हुए मोबाईल नंबर पर सम्पर्क कर सम्बंधित अभ्यर्थी को सरकारी नौकरी दिलाने और चयनित होने का झांसा देकर अभ्यर्थी से अपने खाते में रूपये-पैसे डलवाया जाता था। 

 बरामद सम्पत्ति:- आरोपी चंदन कुमार के कब्जे से मोबाईल 01 नग, लैपटाप 01 नग, नगद राशि 1 लाख 40 हजार रूपये, डेबिट कार्ड 8 नग, भर्ती एवं नियुक्ति से संबधित आवश्यक दस्तावेज बरामद कर जप्त किया गया है। नाम आरेापी :- चंदन कुमार पिता नवीन प्रसाद उम्र 24 निवासी उगावां थाना आस्थावां जिला नालंदा (बिहार)

 (2) प्रकरण ( सीम बंद होने एवं वेरिफिकेशन के नाम ठगी):-  मार्च 2022 में प्रार्थी प्रकाश पाण्डेय उप निरीक्षक सी.आर.पी.एफ. कामानार कैम्प को अज्ञात आरोपी द्वारा मोबाईल फोन के माध्यम से काॅल करके उसका जीयो सिम बंद होने की बात कहते हुए सीम को दुबारा एक्टीवेट करने हेतु वेरिफिकेशन के नाम पर प्रार्थी को अपने मोबाईल पर ‘‘क्वीक सपोर्ट’’ ऐप डाउनलोड करने बोला गया जब प्रार्थी के द्वारा क्वीक सपोर्ट ऐप डाउनलोड करने के पश्चात् मोबाईल बैकिंग के माध्यम से 10 रूपये का रीचार्ज करने बोला गया रिचार्ज करने के तत्काल बाद प्रार्थी के खाते से अलग-अगल किश्तों में कुल 06 लाख 40 हजार रूपये आरोपियो द्वारा राशि आहरित कर ठगी किया गया था। ठगी के संबंध में प्रार्थी को ज्ञात होने पर प्रार्थी प्रकाश पाण्डेय के रिपोर्ट पर संबंधित काॅलर मोबाईल धारक के विरूð थाना दरभा में अपराध क्रमांक 28/2022, धारा 420 भादवि0 66(डी) आईटी एक्ट का अपराध पंजीबद्ध कर अनुसंधान में लिया गया। दौरान अनुसंधान के मामले में आरोपियो के बैंक खातों के विश्लेषण एवं तकनीकी साक्ष्यों के आधार पर संदेही के उपस्थिति की जानकारी (जिला नालंदा) बिहार में मिलने पर, निरीक्षक किशोर केवट, दिनेश यादव के नेतृत्व में टीम गठित कर बिहार रवाना किया गया था। उक्त टीम के द्वारा जिला नालंदा बिहार में संदेह के आधार पर दो व्यक्तियो को घेराबंदी कर पकड़ा गया। जिनसे पूछताछ करने पर जिन्होनें अपना-अपना नाम नीरज कुमार एवं चन्द्रकांत कुमार दोनो निवासी जिला नालंदा बिहार का होना बताए जिनसे पुछताछ करने पर इनके द्वारा प्रार्थी प्रकाश पाण्डेय को मोबाईल फोन के माध्यम से जीयो सीम बंद होने पर, सीम एक्टीवेंशन के लिए, जीओ सर्विस प्रोवाईडर बनकर क्वीक सपोर्ट ऐप डाउनलोड कराकर कुल 06 लाख 40 हजार रूपये की ठगी करना स्वीकार किए। 


तरीका वारदात:-  आरोपीगण से पूछताछ पर बताया गया कि उनके द्वारा प्राथी एवं अन्य पीडित पक्ष को सीम बंद होने का झांसा देकर दुबारा सिम चालू करने हेतु वेरिफिकेशन करने अथवा अन्य समस्याओ के निराकरण करने का झांसा देकर रिमोट एक्सेसिंग ऐप जैसे क्वीक सपोर्ट, ऐनी डेक्स, टीम व्यूवर, गुगल फार्म जैसे ऐप डाउनलोड करने के लिए बोला जाता था जैसे ही कोई व्यक्ति उक्त अनवांटेड ऐप को संचालित करता है वैसे ही पीडित की सभी जानकारी आरोपियो के पास चला जाता है और उनके द्वारा पीडित के खाते से राशि अपने खातो में आहरित कर लिया जाता था। 

 जप्त सामाग्री:- 1. लैपटाॅप - 02 नग,टैबलेट - 01 नग , मोबाईल -17 नग,पैनड्राईव - 03 नग ,डोंगल -02 नग माउस - 01 नग सीम - 22 नग, नगद राशि - 1 लाख 49 हजार रूपये एमटीए कार्ड -01 नग

 नाम आरेापी :- (1) चन्द्रकांत कुुमार पिता अशोक प्रसाद, उम्र 21 वर्ष, निवासी- नोआवाॅ, थाना अस्थावाॅ, जिला नालंदा (बिहार) (2) नीरज कुमार पिता सुनिल मिस्त्री, उम्र 28 वर्ष, निवासी - कपॅसियावा थाना हिलसा जिला 

नालंदा (बिहार) महत्वपूर्ण भूमिका अदा करने वाले अधिकारी:- निरीक्षक एमन साहू, शिशुपाल सिन्हा, दिनेश यादव, किशोर केंवट उप निरी रनेश सेठिया ,प्र.आर. मौसम गुप्ता, अनिल कन्नौजे  आरक्षक गौतम सिन्हा, धर्मेन्द्र ठाकुर, कृष्णा सावडे, सुशील कुमार नाग, रवि कुमार बघेल, दीपक कुमार
Tags

Post a Comment

0 Comments
* Please Don't Spam Here. All the Comments are Reviewed by Admin.