Type Here to Get Search Results !

महासमुंद = 3 राईस मिलों पर कार्रवाई का शिकंजा 0 81 हजार 6 सौ 14 क्विंटल धान और 6 हजार 445 क्विंटल चांवल जब्त

 छग मिलिन चांवल उपार्जन आदेश 2016 का उल्लंघन, 3 राईस मिलों पर कार्रवाई का शिकंजा 

   

नामदेव साहू ब्यूरो महासमुंद WWW.NEWS KHABAR36.IN

महासमुंद= खाद्य विभाग द्वारा नियमों की अनदेखी करने वाले जिले के राइस मिलों के खिलाफ सघन अभियान चलाया जा रहा है। खाद्य अधिकारी ने बताया कि मेसर्स मनीष एण्ड एसोसिएट्स राईस मिल, ग्राम मौलीमुड़ा, तहसील बागबाहरा एवं मेसर्स बालाजी इण्डस्ट्रीज, ग्राम झलप, तहसील बागबाहरा का औचक निरीक्षण किया गया। जिसमें मेसर्स मनीष एण्ड एसोसिएट्स राईस मिल द्वारा कस्टम मिलिंग से संबंधित पंजियां संधारित नहीं किये जाने तथा मिलर मॉड्यूल में मिलिंग संबंधी मासिक जानकारी दर्ज कर मासिक विवरणी को सत्यापित प्रति खाद्य विभाग में जमा नहीं किये जाने के कारण खाद्य विभाग ने फर्म के द्वारा छत्तीसगढ़ मिलिंग चावल उपार्जन आदेश, 2016 के प्रावधानों का किया जाना पाया गया तथा फर्म के पार्टनर मनीष अग्रवाल से 52814 क्विंटल धान और 2984 क्विंटल चावल जब्त किया गया है।

इसी प्रकार मेसर्स बालाजी इण्डस्ट्रीज द्वारा भी कस्टम मिलिंग से संबंधित पंजियों संधारित नहीं किये जाने तथा मिलर माड्यूल में मिलिंग संबंधी मासिक जानकारी दर्ज कर मासिक विवरणी को सत्यापित प्रति खाद्य विभाग में जमा नहीं जाने के कारण खाद्य विभाग द्वारा छत्तीसगढ़ कस्टम मिलिंग चावल उपार्जन आदेश, 2016 के अंतर्गत प्रकरण निर्मित कर फर्म के संचालक मनोज कुमार जिंदल से धान 28800 क्विंटल एवं चावल 3461 क्विंटल जब्त किया गया है। आवश्यक वस्तु अधिनियम कार्रवाई की जा रही है। वहीं खरीफ विपणन वर्ष 2020-21 में कस्टम मिलिंग करने के लिये धान का उठाव पश्चात् चावल जमा नहीं करने के कारण खाद्य विभाग के द्वारा पिछले वर्ष इसी माह की तारीख़ (6 जुलाई 2021) को मेसर्स लक्ष्मी राईस मिल बसना की जांच की गई थी। 

जांच में छत्तीसगढ़ कस्टम मिलिंग चावल उपार्जन आदेश, 2016 के प्रावधानों का उल्लंघन पाये जाने पर 4400 क्विंटल धान, 938 क्विंटल उसना चावल एवं 108.50 क्विंटल कनकी जब्त कर प्रकरण निर्मित किया गया था। प्रकरण में विभाग के द्वारा फर्म के संचालक राजेश अग्रवाल को कारण बताओ नोटिस जारी कर सात दिवस के अंदर लिखित स्पष्टोकरण मांगा गया। फर्म के द्वारा समयावधि में अपना स्पष्टीकरण प्रस्तुत नहीं किये जाने पर उन्हें स्मरण पत्र जारी किया गया संबंधित फर्म द्वारा कोई पत्र अथवा स्पष्टोकरण प्रस्तुत नहीं किये जाने पर फर्म के मिल परिसर को विद्युत आपूर्ति विच्छेद कर दी गई है तथा कृषि उपज मण्डी समिति, बसना के द्वारा फर्म के नाम से जारी अनुज्ञप्ति निलम्बित करने की कार्रवाई की जा रही है।



Tags

Post a Comment

0 Comments
* Please Don't Spam Here. All the Comments are Reviewed by Admin.